केबीसी का 12 वां सीजन 28 सितम्बर से, ऑडिशंस में शामिल हुए रिकॉर्ड 3 करोड़ लोग

केबीसी -12 के सेट की तस्वीरें देखने के लिए क्लिक करें- https://www.instagram.com/p/CEPhKaxB9w7/?utm_source=ig_embed


जयपुर। ‘जो भी हो, सेट बैक का जवाब कम बैक से दो,’ इस टैग के साथ ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी) का 12 वाँ सीजन 28 सितम्बर से जोरदार वापसी कर रहा है। यह साल परिवर्तन का साल है,  जो हमने जीवन भर नहीं किया, वो इस साल हमने किया। स्वयं होस्ट अमिताभ बच्चन कोविड-19 से पार पाकर नए उत्साह के साथ लौट आए हैं। इसी का आईना बनी है इस बार की केबीसी की टैगलाइन। इस साल के डिजिटल ऑडिशन में लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और केबीसी ने लोकप्रियता में फिर धमाकेदार जलवे दिखाए। ऑडिशंस में 3 करोड़ से ज्यादा लोगों ने भाग लेकर रिकॉर्ड कायम किया, जो पिछले साल के ऑडिशन के मुकाबले 42 फीसदी ज्यादा था।



केबीसी कैंपेन डायरेक्टर नितेश तिवारी  के मुताबिक, 'बेशक हम सबके लिए यह साल चुनौतियों से भरा और बहुत अलग है। उन चीजों के बारे में सीखने का, जिनके बारे में कभी सोचा नहीं गया। केबीसी कहीं ना कहीं हम में मौजूद उस चिंगारी को सामने लाता है, जिससे हमें मुश्किलों का सामना करने की प्रेरणा और हौसला मिलता है।' इधर सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के बिजनेस प्लानिंग एंड कम्युनिकेशन है़ड अमित रायसिंघानी कहते हैं, ' केबीसी लोगों को अपनी छोटी-बड़ी उपलब्धियों को सेलिब्रेट करने का मौका देता है। इस साल का आयोजन लीक से परे, विषम हालातों से निकलकर अपनी इच्छा शक्ति और जिजीविषा से प्रेरित है।' इन दिनों केबीसी की शूटिंग चल रही है, जिसमें काफी एहतियात रखते हुए सुरक्षा मानकों को फॉलो किया गया है।


अमिताभ बच्चन ने अपने ट्वीटर हैंडल पर कुछ तस्वीरें शेयर की हैं, जिसमें खुद बिग बी ट्रैक सूट पहने सेट पर एंट्री करते नजर आ रहे हैं। केबीसी -12 के सेट की तस्वीर इंस्टाग्राम पर भी है, जिसमें केबीसी की पूरी टीम नीले रंग की पीपीई किट पहने नजर आ रही है। बकौल अमिताभ, ’मैं काम पर वापस आ गया हूं। यह शो साल 2000 में शुरू हुआ, मुझे पूरे 20 साल हो गए इसे करते। आपका प्यार और स्नेह सदा मेरे साथ रहा, जिससे बहुत अच्छा वक्त बीता।‘ गौरतलब है कि केबीसी के 12 वें सीजन के लिए 9 मई से रजिस्ट्रेशन शुरू हो गए थे। हालांकि कोरोना महामारी की वजह से बीच में ही शूटिंग पर रोक लग गई थी। जब मुंबई हाईकोर्ट ने 65 साल से ज्यादा की उम्र के लोगों को शूटिंग की इजाजत दी,  तब 25 जून से रजिस्ट्रेशन फिर शुरू हो गए।


नहीं होगी ‘ऑडियंस पोल’ लाइफ लाइन


ध्यान रहे, लॉकडाउन में बिग बी ने इसके प्रोमो और रजिस्ट्रेशन को घर से शूट किया था। इस बार केबीसी एक और नए अंदाज में आ रहा है क्योंकि रजिस्ट्रेशन से लेकर प्रतिभागियों के चुनाव तक पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन हुई है। सूत्रों के अनुसार सुरक्षा के कड़े इंतजामों के बीच ‘ऑडियंस पोल’ लाइफ लाइन को हटाने का फैसला लिया गया है। इसके बदले किसी नई लाइफ लाइन को शुरू किया जा सकता है। सेट पर दर्शकों की बजाए सिर्फ कंटेस्टेंट्स के परिवार वाले ही नजर आएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करने के लिए सेट पर दर्शक नहीं होंगे।


दो दशकों का दिलचस्प सफ़र


दिलचस्प है यह जानना भी कि ब्रिटेन के गेम शो 'हु वांट्स टू बी मिलिनेयर 'पर आधारित गेम शो है केबीसी,  जो साल 2000 में शुरू हुआ । अमिताभ बच्चन की छोटे परदे पर यह पहली प्रस्तुति थी। जब यह शो शुरू हुआ, तो किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि यह क्विज लोगों को इतना पसंद आएगा,  लेकिन बिग बी ने इस शो के साथ इतिहास रच दिया। दरअसल अमिताभ हरेक कंटेस्टेंट से इस कदर जुड़ जाते हैं, बतियाते हैं कि प्रतिभागी अपने दिल का गुबार निकाल बैठता है । कहीं कंटेस्टेंट हॉटस्पॉट पर आकर ख़ुशी के मारे झूम पड़ते हैं। कुछ जीवन की कठिन सच्चाइयों की बात करते हैं, जीवन की मर्मस्पर्शी हकीकत से रूबरू कराते हैं, तो कहीं लोगों की दर्द भरी दास्ताँ सुनकर खुद बिग बी भावुक हो जाते हैं। कुछ के आंसू छलक पड़ते हैं, बिग बी सांत्वना देते हैं,  तो वे महानायक के साथ ख़ास जुड़ाव महसूस करने लगते हैं। वह सारी नर्वसनेस जो मंच पर आने से पहले दिल में होती है, उसे भुला अमिताभ उन्हें यह जाहिर करने से नहीं चूकते  कि वे भी उन्हीं  की तरह साधारण इंसान हैं। कवि पिता की विरासत को संभालते उनकी हिंदी और उर्दू के शब्दों पर पकड़, समृद्ध शब्द कोष और प्रयोग देखते ही बनता है । प्यार, स्नेह और अपनेपन से सराबोर यह मंच प्रतिभागी के दिल में ताउम्र जगह बना लेता है। साथ ही देखने वाले दर्शक के तार भी बखूबी इससे जुड़ जाते हैं ।


जैकपॉट सवाल 7  करोड़ का


गौरतलब है कि साल 2000  से 2007 तक यह शो समीर नय्यर की टीम ने तैयार किया, जो स्टार प्लस पर प्रसारित हुआ। साल 2010 से इसे बिग सिनर्जी प्रोडक्शन के बैनर तले  सोनी टीवी ब्रॉडकास्ट करने लगा। लोगों के दिलों पर राज करने वाले बिग बी ने केबीसी के जरिये छोटे परदे पर भी सफलता की नयी ऊंचाइयां हासिल कीं और आज भी वे ही इसके होस्ट हैं । 2005  के दूसरे एपिसोड के बाद टीआरपी में सबसे आगे रहने वाले इस शो को सिर्फ एक बार यानी तीसरे एपिसोड (2007 ) में शाहरुख़ खान ने होस्ट किया, उस समय इसकी टीआरपी में तेज़ गिरावट देखने को मिली। अक्टूबर 2010 से केबीसी के चौथे सीजन  को फिर से अमिताभ बच्चन लेकर आये। हाँ,  दो बातें ख़ास थीं इस शो में,  एक तो केबीसी स्टार प्लस से सोनी टीवी पर प्रसारित होने लगा। दूसरे,  इस बार जैकपॉट का सवाल 5 करोड़ का था। केबीसी का नौवां एपिसोड 2017 में आया । साल 2018 से इनामी राशि 7 करोड़ तक जा पहुंची । तब से हर साल प्रसारित होकर 2020 में केबीसी-12 आपके सामने आ रहा है ।


 शो से बने करोड़पति


कुछ बात करें उनकी, जिन्होंने इस शो से करोड़पति बन इतिहास में नाम दर्ज़ कराया । साल 2000 के पहले शो में करोड़पति बने थे हर्षवर्धन नवाथे ,  जो उस समय आईएएस की तैयारी कर रह थे । सीजन -2 में बिग बी केबीसी जूनियर लेकर आये।  इसमें 10 वीं क्लास के रविमोहन ने 1 करोड़ जीते, जो अब आईपीएस हैं। जूनियर केबीसी के बाद 2005 में केबीसी सीजन -2 आया, पर होस्ट अमिताभ के बीमार होने के बाद बंद कर दिया गया । तीसरा शो शाहरुख़ खान ने होस्ट किया, इसमें कोई कन्टिस्टन्ट  करोड़पति नहीं बन पाया।  केबीसी-4  में करोड़पति  विजेता राहत तस्लीम थीं । पांचवें एपिसोड  में बिहार के सुशील कुमार 5 करोड़ जीतकर सुर्ख़ियों में छा गए। केबीसी- 6  में सनमीत कौर, तो सातवें सीजन में टीचर ताज मोहम्मद रंगरेज और फिरोज़ नाम की महिला, दो करोड़पति बने । शो के आठवें एपिसोड में दो भाइयों- अचिन और सार्थक नरूला ने सात करोड़ जीतकर कामयाबी का नया कीर्तिमान गढ़ दिया । इससे उन्होंने अपनी माँ के कैंसर का इलाज़ कराया और बिजनेस जमाया । सीजन - 9  में जमशेदपुर की अनामिका मजूमदार ने 1 करोड़ जीते। केबीसी-10 की करोड़पति बनने का श्रेय मिला विनीता जैन को। केबीसी- 11 के पहले करोड़पति रहे सनोज राज ।


यहां यह जानना भी जरूरी है कि केबीसी ने सिर्फ आम लोगों को ही करोड़पति नहीं बनाया, बल्कि खुद अमिताभ की भी जिंदगी संवार दी । केबीसी की शुरुआत तब  हुई, जब उनकी कंपनी एबीसीएल को बिज़नेस में जबरदस्त नुकसान हुआ, यहाँ तक कि उनके घर के बाहर कर्जदारों की लाइन लग गई । उस वक्त साल 2000  में अमिताभ को केबीसी होस्ट करने का ऑफर मिला, जिसने आर्थिक मोर्चे पर उन्हें फिर से मज़बूती से खड़ा कर दिया। बकौल अमिताभ, 'मेरे हालात बदलने में केबीसी का अहम रोल था।  इस मायने में मैं केबीसी का ऋणी रहूंगा। यह शो उस समय मेरे पास आया, जब मुझे इसकी जरूरत थी ।' इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि केबीसी ने उन्हें जीवनदान देने के साथ- साथ छोटे परदे पर एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया। बिग बी के स्टारडम का पुनर्जन्म हुआ और वे घर -घर के मनोरंजन के हीरो बन छा गए ।


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप