इफ्फी के 52वें संस्करण के लिए इंडियन पैनोरमा ने प्रविष्टियां आमंत्रित की

- ब्यूरो रिपोर्ट -

नई दिल्ली। 52वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) ने इंडियन पैनोरमा, 2021 के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित करने की घोषणा की है। इंडियन पैनोरमा दरअसल इफ्फी महोत्सव का एक प्रमुख घटक है, जिसके तहत फिल्म कला के प्रचार के लिए सबसे अच्छी समकालीन भारतीय फिल्मों को चुना जाता है। इफ्फी का 52वां महोत्सव 20 से 28 नवंबर, 2021 तक गोवा में आयोजित किया जाएगा।

इसमें आवेदन ऑनलाइन जमा करने की अंतिम तिथि 12 अगस्त, 2021 है और अन्य आवश्यक दस्तावेजों के साथ ऑनलाइन जमा किए गए आवेदन की हार्डकॉपी प्राप्त करने की अंतिम तिथि 23 अगस्त, 2021 है। इंडियन पैनोरमा, 2021 के लिए फिल्में जमा करने के दौरान कुछ दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा। सीबीएफसी की तिथि या जमा कराई गई फिल्म के निर्माण का काम इस महोत्सव से पहले के 12 महीनों में होना चाहिए, यानी 1 अगस्त, 2020 से 31 जुलाई, 2021 के बीच। जिन फिल्मों को सीबीएफसी द्वारा प्रमाणित नहीं किया गया है और वे इस अवधि के भीतर निर्मित हुई हैं, उन्हें भी जमा करवाया जा सकता है। सभी फिल्मों में अंग्रेजी उपशीर्षक होने चाहिए।

इंडियन पैनोरमा को 1978 में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के हिस्से के तौर पर शुरू किया गया था ताकि भारतीय फिल्मों के जरिए भारतीय फिल्म और उसकी समृद्ध संस्कृति और विरासत को बढ़ावा दिया जा सके। तब से ही इंडियन पैनोरमा साल की सर्वश्रेष्ठ भारतीय फिल्मों को प्रदर्शित करने के लिए समर्पित रहा है।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के फिल्म समारोह निदेशालय द्वारा आयोजित इंडियन पैनोरमा का मकसद सिनेमाई, विषयगत और सौंदर्यगत उत्कृष्टता वाली फीचर और नॉन-फीचर फिल्मों को चुनना है और इन फिल्मों का गैर-मुनाफे वाला प्रदर्शन करके फिल्म कला को बढ़ावा देना है। इन फिल्मों का ये प्रदर्शन भारतीय और विदेशी अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में, द्विपक्षीय सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रमों के तहत आयोजित इंडियन फिल्म वीक्स में, कल्चरल एक्सचेंज प्रोटोकॉल के बाहर विशेष भारतीय फिल्म समारोहों में और भारत में विशेष इंडियन पैनोरमा समारोहों में किया जाता है।

Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक