हांगकांग में ‘एप्पल डेली’ के अंतिम संस्करण की बिकी लाखों प्रतियां

 - ब्यूरो रिपोर्ट -

हांगकांग। हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक आखिरी अखबार एप्पल डेली के अंतिम संस्करण की प्रतियों को खरीदने के लिए गुरुवार सुबह लोगों की लंबी कतारें लग गईं। लोगों में जहां इसे खरीदने के लिए भारी उत्सुकता देखी गई तो वहीं कुछ लोग निराश भी दिखे। शहर में ज्यादातर जगहों पर सुबह साढ़े आठ बजे तक ही एप्पल डेली के अंतिम संस्करण की 10 लाख प्रतियां बिक गई। बता दें कि अखबार की कंपनी पुलिस के उसकी 23 लाख डॉलर की संपत्ति फ्रीज करने, उसके कार्यालय की तलाशी लेने और पांच शीर्ष संपादकों और कार्यकारियों को पिछले हफ्ते गिरफ्तार करने के बाद कहा था कि वह अपना संचालन बंद करेगा। पुलिस ने अखबार पर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए विदेश से मिलीभगत का आरोप लगाते हुए यह कार्रवाई की थी।


एप्पल डेली की प्रति के साथ अखबार का एक समर्थक।

नेक्स्ट मीडिया के निदेशक मंडल ने बुधवार को एक बयान में कहा था कि ‘‘हांगकांग में मौजूदा परिस्थितियों’’ के कारण उसका प्रिंट संस्करण और ऑनलाइन संस्करण शनिवार तक बंद हो जाएगा। बीजिंग द्वारा करीब एक साल पहले लागू किए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत पहले मुकदमे की सुनवाई शुरू होने के साथ ही यह घोषणा की गई। पिछले हफ्ते हुई गिरफ्तारियों के बाद यह कदम उठाया गया है। पांच संपादकों और कार्यकारियों को राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए विदेशियों से मिलीभगत के संदेह में गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने हांगकांग तथा चीन पर विदेशी प्रतिबंध लगाने की कथित साजिश के सबूत के तौर पर अखबार द्वारा प्रकाशित 30 से अधिक लेखों का हवाला दिया।

निदेशक मंडल ने इस हफ्ते हांगकांग के सुरक्षा ब्यूरो को पत्र लिखकर उसकी कुछ निधि जारी करने का अनुरोध किया था, ताकि कंपनी वेतन दे सके। इससे पहले पुलिस ने बुधवार को राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने के लिए विदेश से मिलीभगत के संदेह पर 55 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया। एप्पल डेली ने अज्ञात सूत्रों के हवाले से बताया कि इस व्यक्ति ने अखबार के लिए संपादकीय लिखे थे।

एप्पल डेली के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई की अमेरिका, यूरोपीय संघ और ब्रिटेन ने आलोचना की और कहा कि हांगकांग तथा चीनी प्राधिकारी शहर की स्वतंत्रता को निशाना बना रहे हैं।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!