जिफ में दूसरे दिन 25 देशों की 56 फ़िल्मों का ऑनलाइन प्रदर्शन

 

- ब्यूरो रिपोर्ट -

जयपुर, 16 दिसम्बर। जयपुर इंटरेनशनल फिल्म फेस्टिवल-जिफ के दूसरे दिन 25 देशों की 56 फ़िल्में ऑनलाइन दिखाई गई। इनमें भारत से 107 मिनट की 'वेहर इज पिंकी', बिशिख तालुकदार की 'तितली' (129), विष्णु  देव की 'स्माइल' (77) और अविक रॉय की बंगाली फिल्म 'मास्टरमोसाई' (121) हैं। चेक रिपब्लिक से दारिया, फ्रांस से द सांग ऑफ़ द सी, रशिया से हैप्पी बर्थडे, कोरिया से स्माइली जैसी फ़िल्में हैं. डॉक्युमेंट्री फीचर फिल्मों में भारत से इन्वेस्टिंग लाइफ और पाने चेक तथा ऑस्ट्रेलिया से ओसियन टू स्काई  और अमेरिका से डायग्नोस्टिक हेल्थकेयर जैसी फिल्में हैं।

गौरतलब है कि जिफ में 44 देशों की 266 फ़िल्में दिखाई जा रही हैं। विश्व भर की शार्ट और लॉन्ग स्टोरीज को हजारों फिल्म लवर्स और दर्शक रोजाना एन्जॉय कर रहे हैं।



रविवार की फीचर फिक्शन फिल्मों में भारत से अनीश उरमबील और अशोक नाथ की कांथी तथा ईरान से द रिवर्सड पथ, फ्रांस से फायर्स इन द डार्क, कनाडा से द कलर ऑफ़ स्प्रिंग, चायना से विद यू और टू चेयर इन द वार प्रमुख हैं वहीं साथ ही, डोक्यूड्रामा  में नार्वे से ए बिहेवेव इन माय हार्ट, अमेरिका से द न्यू अबॉलीट्यूनिस्ट्स और भारत से द लास्ट ट्रायब प्रमुख हैं।

राजस्थान से कामरान टाक  की शार्ट फिल्म सपोजऔर सुनील प्रसाद शर्मा की तू छोड़ ना उम्मीदों का दामन’ सॉन्ग की ऑनलाइन स्क्रीनिंग रविवार को होगी।

एमकान एक 17 वर्षीय किशोरी है, जिसने कई वर्षों से अपने पिता को नहीं देखा है और उसकी माँ एक कारखाने में देर रात तक काम करती है। उसके पास एक छोटा रिकॉर्डिंग कैमरा है और वह फिल्म बनाने का फैसला करती है, और लक्ष्य को प्राप्त करने की पूरी कोशिश करने की कहानी है।

सातवीं शताब्दी की कहानी है ये जिसमें  समुद्र और पहाड़ के बीच बसे एक छोटे से गाँव में स्थित, पंद्रह साल के एक युवा एलन के पिता उसे बेच दिया। एलन को अपने पिता की जगह लेने के लिए मजबूर किया जाता है और अपने परिवार का समर्थन करने के लिए संघर्ष करने की कहानी है।

फिल्मों को देखने के लिए दर्शकों के लिए यूएफओ (UFO) के प्लेक्सिगो (Plexigo) एप को डाउनलोड करना होगा। प्लेक्सिगो एप गूगल प्ले स्टोर या एप्पल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। फ़िल्में देखने के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। दर्शकों की अपील पर जिफ ने निर्णय लिया है कि शुक्रवार वाली फ़िल्में अब 19 जनवरी तक कभी भी देखी जा सकती हैं, लेकिन आने वाली तारीख की फ़िल्में उसी तारीख से ही ऑनलाइन उपलब्ध होगी. लेकिन उसके बाद 19 जनवरी तक लाइव रहेगी।

Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक