5 दिवसीय ऑनलाइन चिल्ड्रन्स फिल्म फेस्टिवल का कल से होगा आगाज



जयपुर, 23 दिसंबर। 
ऑनलाइन चिल्ड्रन्स फिल्म फेस्टिवल का आयोजन गुरूवार 24 दिसंबर से 28 दिसंबर तक प्रतिदिन सायं 7 बजे किया जाएगा। इस फेस्टिवल का आयोजन कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार, जवाहर कला केंद्र (जेकेके) द्वारा चिल्ड्रन्स फिल्म सोसाइटी, इंडिया, भारत सरकार के सहयोग से किया जा रहा है।

फेस्टिवल का उद्घाटन राजस्थान सरकार के कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला गुरूवार शाम 7 बजे करेंगे। राजस्थान सरकार के कला एवं संस्कृति विभाग की शासन सचिव और जेकेके महानिदेशक, मुग्धा सिन्हा; सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय सचिव, भारत सरकार अमित खरे और अंतर्राष्ट्रीय आयुक्त (स्काउट्स) और राज्य के मुख्य आयुक्त, भारत स्काउट्स एंड गाइड्स, राजस्थान राज्य जे.सी. मोहंती, आई.ए.एस. (सेवानिवृत्त) भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।



फेस्टिवल की शुरूआत रामकिशन चोयल द्वारा निर्देशित फिल्म 'गौरू- जर्नी ऑफ करेज' के साथ होगी। इस फिल्म में बताया गया है कि कैसे एक चरवाहे का पोता अपनी दादी की अंतिम इच्छा को पूरा करता है। इसके बाद 25 दिसंबर को सीमा देसाई द्वारा निर्देशित फिल्म 'पप्पू की पगडंडी' की स्क्रीनिंग होगी। जादुई और साहसिक  कहानी पर आधारित यह फिल्म सिखाती है कि खुशी का कोई शॉर्टकट नहीं होता। फेस्टिवल के तीसरे दिन (26 दिसंबर) को बतूल मुख्तियार द्वारा निर्देशित फिल्म 'काफल' का प्रदर्शन किया जाएगा। फिल्म मकर और कमरू की कहानी पर आधारित है जो एक जादूई औषधि द्वारा अपने ढोंगी पिता से छुटकारा पाने की योजना बनाते हैं। 27 दिसंबर को कांतिलाल राठौड़ द्वारा निर्देशित 'डूंगर रो भेद' का प्रदर्शन किया जाएगा। यह फिल्म बच्चों के एक समूह पर आधारित है जो ड्रग्स और हस्तशिल्प की तस्करी के अवैध संचालन का पर्दाफाश करते हैं।  प्रमोद पाठक द्वारा निर्देशित फिल्म 'पिंटी का साबुन' की स्क्रीनिंग के साथ 28 दिसंबर को इस फेस्टिवल का समापन होगा। संजय खाती के पुरस्कार विजेता उपन्यास 'पिंटी का साबुन' पर आधारित यह फिल्म ललित की कहानी पर आधारित है जो एक सौंदर्य साबुन जीतकर गांव में हर एक की ईर्ष्या का पात्र बन जाता है।

Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक