यूरोपीय देशों में फिर से लाॅकडाउन के कारण हिंदी फिल्मों की रिलीज टली


मुंबई। ब्रिटेन और दूसरे यूरोपीय देशों में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के खतरे के बाद एक बार फिर लाॅकडाउन लागू कर दिया गया है। दोबारा लगाए गए लाॅकडाउन के कारण उन फिल्मकारों के मंसूबों पर पानी फिर गया है, जो तेजी से बदले हालात के बाद अपनी फिल्मों को देश और विदेश में रिलीज करने की तैयारी कर रहे थे। 



अनलाॅक और सिनेमाघर खोलने की अनुमति मिलने के बाद कुछ बड़ी हिंदी फिल्मों को बड़े पैमाने पर रिलीज करने की तैयारी चल रही थी। आापको बता दें कि हिंदी फिल्मों का ओवरसीज मार्केट बहुत बड़ा है और ऐसे में अगर किसी नई फिल्म को अगर सिर्फ देश मंे ही रिलीज किया जाता है, तो उसकी ओवरसीज की कमाई पर बुरा असर पड़ सकता है। यही सोचकर फिल्मकारों ने अपनी फिल्मों की रिलीज को टाल दिया है। अक्षय कुमार की ‘सूर्यवंशी‘ और रणवीर सिंह की ‘83‘ कुछ ऐसी ही फिल्में हैं, जिनका रिलीज होना एक बार फिर टलता नजर आ रहा है।
मलेशिया, चीन, ब्रिटेन और अमेरिका में हिंदी फिल्मों का एक बड़ा दर्शक वर्ग है। पिछले साल हिंदी फिल्मों ने ओवरसीज मार्केट से करीब 19 अरब रुपए की कमाई की थी, लेकिन इस साल मैदान पूरी तरह साफ है। ट्रेड पंडितों का कहना है कि कोरोना के कारण फिल्म उद्योग अब तक 1500 से 2000 करोड़ रुपए का नुकसान उठा चुका है और हालात कब सामान्य होंगे, इस बारे में फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!