टीवी पत्रकारिता की मौजूदा हालत बेहद शर्मनाक - बरखा दत्त

नई दिल्ली। मशहूर टीवी पत्रकार बरखा दत्त ने कहा है कि टेलीविजन पत्रकारिता का वर्तमान स्तर देखकर उन्हें शर्मिन्दगी का अहसास होता है। उन्होंने कहा कि टीवी चैनल जिस तरह जज की भूमिका में आ गए हैं, वह सब देखकर बेहद अफसोस होता है। एक इंटरव्यू में बरखा दत्त ने कहा, ''मैं टीवी नहीं देखती हूं, ऐसे में पिछले कुछ समय में मैंने जो ऑनलाइन पोस्ट देखा है, उससे मुझे अपने पुराने माध्यम (टेलीविजन पत्रकारिता) की हालत पर शर्म आ रही है। टेलीविजन पर आज जो परोसा जा रहा है, उसे देखकर मैं कभी टेलीविजन पत्रकार बनने के लिए प्रेरित नहीं होती।''



उन्होंने कहा, ''निश्चित तौर पर इन परिस्थितियों के लिए कुछ लोग स्वाभाविक रूप से गुनहगार हैं, लेकिन कुछ ऐसे लोगों में मुझे पाखंड भी दिखता है, जो अलग होने का दावा करते हैं। कुछ ऐसे वरिष्ठ हैं, जो यह दावा करते हैं कि वे नए दौर के लोगों जैसे नहीं है, लेकिन उसी स्टोरी को वे ढंक कर पेश करते हैं, जिसमें वहीं भद्दापन, सेक्सिस्ट और आक्रमणकारी तरह से सवाल पूछने के तरीके शामिल होते हैं। उनके न्यूज चैनल उसी तरह से अपमानजनक कैप्शन, उन्माद फैलाने वाले काउंटडाउन, और अच्छे-बुरे कमेंट भी लेने की कोशिश करते हैं, जिससे दोनों संबंधित पक्षों को संतुष्ट किया जा सके।''


इंटरव्यू में बरखा दत्त ने कहा, ''मेरा मानना है कि सुशांत सिंह राजपूत पर की जा रही टेलीविजन पत्रकारिता काफी तुच्छ, बेसिर-पैर और खतरनाक स्तर पर हो रही है। ऐसा लगता है जैसे हर रोज भीड़ में उन्माद पैदा करने के लिए, रात में भेड़ियों का झुंड शिकार के लिए टेलीविजन स्टूडियो से बाहर निकलता है। ऐसे समय जब देश में कोविड-19 के बढ़ते मामले, लद्दाख में चीन की वजह से तनाव, बेरोजगारी, बंद स्कूल, जीएसटी संग्रह में कमी जैसे मुद्दे देश के सामने चुनौती बनकर खड़े हैं, उस वक्त टीवी चैनल लोगों के व्यक्तिगत जीवन पर फैसला सुना रहे हैं, लोगों के निजी वाट्सऐप चैट दिखा रहे हैं, गॉसिप के आधार पर खबरें दिखा रहे हैं और उनके रिपोर्टर कार और डिलीवरी ब्वॉय का पीछा करते हुए दिखाई दे रहे हैं।''


उन्होंने कहा, ''हालांकि मैं यह नहीं कह रही कि सुशांत सिंह राजपूत की स्टोरी एक-दो दिनों के लिए महत्वपूर्ण मुद्दा नहीं थी। लेकिन जिस तरह हर मिनट, बेअदबी और स्त्री जाति से दुर्भावना के आधार पर कवरेज की जा रही है, वह रिपोर्टिंग को शर्मसार करने वाली है। दर्शकों के लिए भी जरूरी है कि बेहतर मुद्दों वाली स्टोरी का समर्थन करें, नहीं तो जैसा मौजूदा रिपोर्टिंग की तरफदारी करने वाले कहते हैं, हमें वही मिलेगा, जिसके हम लायक हैं।''


 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप