पिछले हफ्ते टाॅप थ्री में भी जगह नहीं बना पाई सुशांत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा'

मुंबई। टेलीविजन चैनल भले ही यह कहते रहें कि अभिनेता सुशांतसिंह राजपूत की मौत के मामले में  वे पल-पल की खबरें देकर टीवी दर्शकों की उत्सुकता को शांत करने का प्रयास कर रह हैं, लेकिन सच्चाई इसके उलट है। टीवी दर्शकों को सुशांत में कितनी दिलचस्पी है, यह इस बात से पता चलता है कि सुशांत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा‘ को पिछले हफ्ते की टीआरपी में टाॅप थ्री में भी जगह नहीं मिली है।



साल के 34वें हफ्ते यानी 22 अगस्त से 28 अगस्त की जो टीआरपी ब्रॉडकास्टर आडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने जारी की है, उसके हिसाब से हिंदी फिल्मों  के मामले में सोनी मैक्स अब भी नंबर एक पर कायम है। इसके बाद जी सिनेमा, जी अनमोल सिनेमा, धिंचक चैनल और आखिर में स्टार गोल्ड है। स्टार गोल्ड को कभी हिंदी फिल्मों के मामले में अव्वल नंबर माना जाता था लेकिन अब ये सबसे फिसड्डी चैनल हो चुका है। 22 अगस्त से 28 अगस्त के बीच जो हिंदी फिल्में विभिन्न चैनलों पर दिखाई गईं उनमें पेड और फ्री सारे चैनलों को मिलाकर अव्वल नंबर फिल्म रही प्रभास और अनुष्का शेट्टी की फिल्म ‘बाहुबली 2 द कनक्लूजन’। दूसरे नंबर पर जी सिनेमा पर प्रसारित हुई फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ रही और तीसरे नंबर पर रही आमिर खान की फिल्म ‘पीके’। फिल्म ‘पीके’ में सुशांत सिंह राजपूत का स्पेशल अपीयरेंस है। लेकिन जिस फिल्म को लेकर डिजनी प्लस हॉटस्टार ने ये दावा किया था कि इसके सीधे ओटीटी प्रसारण ने इसके सबसे ज्यादा देखे जाने का रिकॉर्ड बनाया है, उसी के टीवी चैनल स्टार गोल्ड पर प्रसारण में ये फिल्म चौथे नंबर पर रही, उसके पीछे सिर्फ जी सिनेमा पर प्रसारित ‘गीत गोविंद’ ही है।


हिंदी पट्टी में डब फिल्मों की लोकप्रियता भी पहले की तरह कायम है। मुफ्त प्रसारण वाले चैनलों में धिंचक चैनल की तीन फिल्में  ‘डैंजरस खिलाड़ी 5’, ‘फाइटर मैन सिंघम 2’ और ‘खतरनाक खिलाड़ी 2’ ने मैदान मारा। रिश्ते सिनेप्लेक्स चैनल की फिल्म ‘डैशिंग सीएम भारत’ नंबर दो पर रही है जबकि इसी चैनल पर प्रसारित ‘खतरनाक खिलाड़ी 2’ ने भी टॉप 5 फिल्मों में जगह बनाई।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक