मोदी की जाति पर ट्वीट पर पत्रकार की गिरफ्तारी, अंतरिम जमानत पर छोड़ा

 


अहमदाबाद। पत्रकार आकार पटेल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जाति पर ट्वीट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया, बाद में उन्हें अंतरिम जमानत पर छोड़ दिया गया। पटेल के ट्वीट्स के आधार पर बीजेपी के विधायक ने शिकायत दर्ज कराई थी। आकार पटेल पर एक जाति विशेष पर आपत्तिजनक ट्वीट करने का आरोप लगा था। आरोप है कि उन्होंने गुजरात के घांची जाति के खिलाफ कुछ ट्वीट किए थे। सूरत पश्चिम से विधायक पुरणेश मोदी की शिकायत पर पटेल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी।



डी डब्ल्यू वर्ल्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक पुरणेश मोदी ने अपनी शिकायत में कहा था कि पटेल ने जान कर सांप्रदायिक वैमनस्य को भड़काने के लिए अपने ट्विटर अकाउंट का इस्तेमाल किया। विधायक ने दावा किया कि पटेल के ट्वीट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जाति का अपमान करने के इरादे से हिंदू-घांची समुदाय को भी बदनाम किया। पटेल के खिलाफ 7 जुलाई को एफआईआर दर्ज की गई थी और उसमें कहा गया था कि 24 जून और 27 जून को पटेल ने तीन ट्वीट किए जो कि आपत्तिजनक और समुदाय के खिलाफ हैं। पटेल के खिलाफ आईपीसी की धाराएं 153 ए, 295 ए, 505 (1) बी, 505 (1) सी, 499 और 500 के तहत मामला दर्ज किया गया है। ज्यादातर धाराएं गैर-जमानती हैं।


गुजरात पुलिस ने आकार पटेल को अगले हफ्ते सभी डिवाइसेस को फॉरेंसिक जांच के लिए जमा करने को कहा है। इस बारे में आकार पटेल ने ट्वीट कर जानकारी भी दी है। पटेल भारत में एमेनेस्टी इंडिया के साथ भी काम कर चुके हैं। पुरणेश ने अपनी शिकायत में विवादित ट्वीट्स की तस्वीरें भी सबूत के तौर सौंपी है। सूरत पुलिस ने पटेल को आगे भी पूछताछ के लिए मौजूद रहने को कहा है। पुरणेश ने अपनी शिकायत में कहा है कि पटेल जो कि सूरत के रहने वाले हैं और फिलहाल बेंगलुरू में रहते हैं, उन्होंने घांची समुदाय पर ट्वीट कर उसे 2002 के गोधरा ट्रेन कांड से जोड़ने की कोशिश की।


पुरणेश मोदी का कहना है कि वे भी इसी समुदाय से आते हैं। पुरणेश ने साथ ही उल्लेख किया कि मोदी (हिंदू घांची) उपनाम वाले लोग मोधवणिक समाज से आते हैं और वे गुजरात में मौजूद हैं। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक उन्होंने अपनी शिकायत में कहा, "साबरमती एक्सप्रेस पर हमला करने वाले गोधरा के घांची मुसलमानों का हमारे से कोई रिश्ता या वास्ता नहीं है। आरोपी ने मौजूदा प्रधानमंत्री को बदनाम किया है। आकार पटेल ने ऐसा जानबूझकर किया है, उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूरे मोदी घांची समाज को अज्ञात लाभ के लिए निशाना बनाया है।"


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप