फिल्म उद्योग के अनेक बड़े कलाकारों ने झेला कैंसर का दंश

मुंबई। लंग कैंसर से जूझ रहे संजय दत्त फिलहाल ट्रीटमेंट के लिए विदेश नहीं गए हैं और मुंबई के ही एक अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे हैं। संजय दत्त ने अमेरिका के डॉक्टर्स से सेकंड ओपिनियन लिया था, उसके बाद ही उन्होंने बाहर जाने का फैसला टाल दिया। फिलहाल संजय ने फिल्मों से ब्रेक ले लिया है और वे इलाज पर फोकस कर रहे हैं।  मीडिया में तरह तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं कि उन्हें तीसरे या चौथे स्टेज का फेफड़ों का कैंसर है। जल्द ही इलाज के लिए उनके अमेरिका रवाना होने के भी समाचार मिले। लेकिन खुद संजय ने इस बारे में सिर्फ इतना बताया है कि वे इलाज करा रहे हैं और अपील की है कि लोग इसे लेकर ज्यादा कयास ना लगाएं। इस घटना के मद्देनज़र यह भी जान लेना चाहिए कि फिल्म उद्योग की अनेक हस्तियों ने कैंसर का दंश झेला है। इनमे सबसे पहला नाम संजय दत्त की माँ नरगिस दत्त का है।



बीते जमाने की मशहूर अदाकारा नरगिस को पैंक्रियाटिक कैंसर ने अपनी चपेट में ले लिया था। इस रोग के इलाज के लिए वह न्यूयॉर्क में रहीं, लेकिन वे इससे ज्यादा दिनों तक लड़ नहीं पाईं। नरगिस ने अपने बेटे संजय दत्त की पहली फिल्म 'रॉकी' रिलीज होने के तीन दिन पहले ही दुनिया को अलविदा कह दिया।


सोनाली बेंद्रे


अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे को हाई ग्रेड मेटास्टैटिक कैंसर हो गया था। कैंसर शरीर के जिस हिस्से में सबसे पहले विकसित होता है उसे प्राइमरी स्पॉट कहते हैं और जब कैंसर सेल्स टूटकर दूसरे हिस्सों तक फैल जाते हैं तो वह मेटास्टैटिक कैंसर कहलाता हैं। न्यूयॉर्क में इलाज करवाने के बाद वे ठीक हो गईं।


इरफान खान


'पान सिंह तोमर' और 'मकबूल' जैसी फिल्मों से अपनी अदाकारी का डंका बजा  चुके इरफान को हाई-ग्रेड न्यूरोएंडोक्राइन कैंसर हो गया था। लंदन में इलाज करवाया गया लेकिन 53 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। उन्होंने 2018 में बताया कि उन्हें कैंसर है। इसके बाद वह काफी समय तक फिल्मों से दूर रहे। 2019 में उन्होंने "अंग्रेजी मीडियम" फिल्म से वापसी की थी।


विनोद खन्ना


बॉलीवुड के सबसे हैंडसम एक्टरों में शुमार रहे विनोद खन्ना ने 2017 में दुनिया को अलविदा कह दिया। वह लीवर के कैंसर से पीड़ित थे। गुरदासपुर से बीजेपी सांसद रहे खन्ना आखिरी बार 2015 में शाहरुख खान की फिल्म ‘दिलवाले’ में नजर आए थे। कैंसर से लड़ाई के अंतिम पलों में उनके शरीर में पानी की कमी हो गई थी जिससे वह कमजोर हो गए थे। उनकी तस्वीर जब सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो फैन्स में निराशा की लहर दौड़ गई।


राजेश खन्ना


'जिंदगी और मौत ऊपरवाले के हाथ में है, बाबूमोशाये!' फिल्म 'आनंद' में एक कैंसर फाइटर की भूमिका निभाने वाले राजेश खन्ना को असल जिंदगी में भी इस गंभीर बीमारी से लड़ना पड़ा। कहा जाता है कि अपनी जिंदगी के आखिरी 20 दिनों में उन्हें अपने अंतिम समय का आभास हो गया था। 18 जुलाई 2012 को वह कैंसर से हार गए।


मनीषा कोइराला


2012 में मनीषा के कैंसर की खबर आई और बिन बालों वाली मनीषा की तस्वीरों ने उनके फैंस को हैरान कर दिया। कोइराला ने इस दौरान महिलाओं को प्रेरित किया कि कैंसर से निपटा जा सकता है। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि उनके परिवार में कैंसर का इतिहास रहा है, इसलिए वह अपनी बीमारी पर हैरानी नहीं हैं।


अनुराग बासु


गैंगस्टर, मर्डर और बर्फी के डायरेक्टर रहे अनुराग बासु को 2004 में मालूम चला कि वह ल्यूकेमिया यानी ब्लड कैंसर से पीड़ित हैं। डॉक्टरों ने कहा कि उनके पास ज्यादा वक्त नहीं है और लंबी उम्र की उम्मीद वह न रखें। लेकिन बासु लड़े और उन्होंने कैंसर को हराया


मुमताज


जानी मानी अभिनेत्री मुमताज को 2002 में स्तन कैंसर से पीड़ित पाया गया। उन्हें छह कीमोथेरेपी और 35 रेडिएशन थेरेपी करानी पड़ी। मुमताज की उम्र उस समय 54 साल थी। अब 70 से ऊपर की हो चुकीं मुमताज अपने परिवार के साथ कभी लंदन तो कभी मुंबई में वक्त बिताती हैं।


 


 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप