“साइंस थ्रू माई आईज” विषय पर  फोटो / पेंटिंग और लघु फिल्‍म प्रतियोगिता  का आयोजन 

नई दिल्ली। भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी (आईएनएसए) और विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (एसईआरबी) एक फोटो / पेंटिंग और एक मिनट की फिल्म प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है। प्रतियोगिता का उद्देश्य लोगों को उनके विषय से हटकर अपने आसपास के विज्ञान को देखने, समझने और उसकी सराहना करने में मदद करना है। एक समीक्षात्‍मक दृष्टि वैज्ञानिक भावना को बढ़ावा देने और अनुसंधान में रुचि को बढ़ावा देने और रचनात्मक क्षमताओं को प्रोत्साहित करने में मदद करेगी।



प्रतियोगिता का विषय “साइंस थ्रू माई आईज” है। इस मुख्य विषय के अंतर्गत कोई भी उपयुक्त उप-विषय चुना जा सकता है। उप-विषयों के कुछ उदाहरण हैं प्रयोगशाला, रसोई, खेल, अस्पताल, घर पर या काम पर विज्ञान हैं। “साइंस थ्रू माई आईज” के अंतर्गत रचना में कोविड-19 वायरस, स्वस्थ जीवन, भू-विरासत, स्वास्थ्य, आकर्षक स्थान और मुख्य विषय के अंतर्गत आने वाले किसी भी विषय से संबंधित कोई भी कार्य शामिल हो सकता है।


डीएसटी सचिव, प्रोफेसर आशुतोष शर्मा ने कहा- "हर जगह विज्ञान और सभी के लिए विज्ञान के माध्यम से विज्ञान का लोकतंत्रीकरण एक दमदार विषय है जो बड़े पैमाने पर समाज में वैज्ञानिक स्वभाव को विकसित करने में मददगार होगा, गुणवत्ता, नवीन ज्ञान की खोज में युवाओं को प्रेरित करेगा, और वास्तव में विकास, सुरक्षा और आत्‍मनिर्भर भारत की आर्थिक जरूरतों में योगदान देगा।”


प्रतियोगिता केवल भारतीय नागरिकों के लिए खुली है। कोई प्रवेश शुल्क नहीं है। प्रवेश 3 समूहों के तहत होंगे - किसी भी विषय में डॉक्टरेट छात्र (पीएचडी) और पोस्ट-डॉक्टरल फेलो, जो किसी भी विषय में एमबीबीएस, एमएस, एमडी, एम टेक, एमबीए जैसी पेशेवर डिग्री के लिए पढ़ाई कर रहे हैं, प्रैक्टिसिंग वैज्ञानिक हैं और किसी भी अन्य तरह का पेशेवर काम कर रहे डॉक्टर, इंजीनियर, तकनीकी कर्मचारी, फिल्म-निर्माता, पैरा-मेडिको… आदि हैं। काम करने के लिए दो की एक टीम भी बनाई जा सकती है। प्रविष्टि किसी व्यक्ति या 2 व्यक्तियों की टीम के नाम पर हो सकती है। प्रविष्टियां 15 जुलाई, 2020  तक ई-जमा कराई जा सकती हैं।


अधिक जानकारी के लिए देखें :


http://www.insaindia.res.in/scroll_news_pdf/INSA_SERB_Competition.pdf)



Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!