फिल्म उद्योग के सामने नया संकट, बड़े सितारे शूटिंग के लिए तैयार नहीं


मुंबई।  लाॅकडाउन के बाद से गहरे आर्थिक संकट से गुजर रहे फिल्म उद्योग के सामने एक नया संकट आ खड़ा हुआ है। यह संकट फिल्मों की शूटिंग से जुड़ा है। दरअसल कोरोना के भय के कारण बड़े सितारे फिल्मों की शूटिंग में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं और इस वजह से नई फिल्मों की रिलीज का रास्ता बेहद मुश्किल नजर आ रहा है। बड़ा सवाल यह है कि जब हालात सामान्य होंगे और सिनेमाघर पहले की तरह कामकाज शुरू कर देंगे, तक रिलीज के लिए नई फिल्में कहां से आएंगी।



उद्योग जगत के फिल्म विशेषज्ञ कोमल नाहटा ने कहा कि घोषणाओं के साथ- वर्ष के अंतिम दो महीनों में सिनेमाघरों में सूर्यवंशी, 83, कुली नं 1 और राधे, भले ही ये फिल्मे काम कर जाएं, लेकिन इसके बाद क्या? यह डर इस तथ्य से पैदा हुआ है कि चूंकि शूटिंग अभी भी नहीं हो रही है, इसलिए फिल्में अगले साल या 2021 के पहले छह महीनों में रिलीज़ होने के लिए पूरी नहीं हो पाएंगी। वे आगे कहते हैं कि यह किसी का अनुमान है कि टॉप कलाकार शूटिंग शुरू नहीं करेंगे (जब तक कि फिल्म को पूरा करने में उन्हें केवल कुछ दिन ही काम करने की जरूरत है) जब तक कि वे बहुत सुरक्षित महसूस न करें। ऐसा तब हो सकता है जब बाजार में कोरोनोवायरस से लड़ने के लिए सुपर-प्रभावी दवा या वैक्सीन उपलब्ध हो।


दवा या टीकाकरण की अनुपस्थिति में, टॉप बीस सितारे अपने घरों से बाहर आना पसंद नहीं करेंगे और वे कुछ ओर वक़्त बिना शूटिंग किये बिता सकते है क्योंकि यह उनके लिए आजीविका का सवाल नहीं होगा यदि वे बिना काम के घर पर रहने का विकल्प चुनते हैं। हालांकि, जब सितारे स्टूडियो में लौटेंगे, तो वे निश्चित रूप से ओवरटाइम काम कर के कंटेंट का निर्माण करेंगे, यानी दुगनी गति से काम होगा।


जब से लॉकडाउन लागू हुआ है, मनोरंजन उद्योग बेहद प्रभावित हुआ है। एक तरफ़, जहां फिल्म व्यापार सिनेमाघरों को फिर से खोलने की सरकार की अनुमति का इंतजार कर रहा है, वहीं इस बात की भी चिंता बढ़ रही है कि जनता सिनेमाघरों में कब लौटेगी। शूटिंग फिर से शुरू होने के साथ, एक डर यह भी है कि सिनेमाघर खुलने पर भी, क्या फ़िल्म प्रेमी कोविड -19 की स्थिति में सुरक्षा को दांव पर रख कर सिनेमाघरों का रुख करेंगे? महामारी के कारण लाखों लोगों के रोजगार और व्यापार बंद होने के कारण, लॉकडाउन के बाद लोगों के हाथों में खर्च करने की शक्ति पर भी यह निर्भर करता है। आवश्यकताओं की सूची में, मनोरंजन लोगों के लिए खर्च करने की अंतिम ऑप्शन में से एक होगा क्योंकि वे फिर से सब कुछ खुल जाने के बाद अपने जीवन को वापस पटरी पर लाने के लिए संघर्ष करेंगे। 


स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर प्रीमियर के लिए, लॉकडाउन अवधि के दौरान लगभग बीस फिल्में पहले से ही प्रतिबद्ध हैं। औसतन, यह सुरक्षित रूप से माना जा सकता है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म पर प्रीमियर करने वाली प्रत्येक फिल्म देश के 10,000-मल्टीप्लेक्स और सिंगल-स्क्रीन सिनेमाघरों में एक सप्ताह तक दिखाए जाने वाले कार्यक्रम के नुकसान में बदल जाती है। इसलिए 20 फिल्मों का अर्थ यह होगा कि सिनेमाघरों के लिए पांच महीने तक कंटेंट का अभाव रहेगा जिसके परिणामस्वरूप नुकसान हुआ है। प्रदर्शकों और जनता के बीच की चिंता इसके बाद आने वाले कंटेंट के प्रति है। 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!