फेयर एंड  लवली का नाम अब ग्लो एंड लवली, नए नाम के साथ जल्द बाजार में

मुंबई। हिंदुस्तान यूनिलीवर (एचयूएल) ने गुरुवार को कहा कि उसका स्किनकेयर ब्रांड फेयर एंड  लवली अब ग्लो एंड लवली के नाम से जाना जाएगा। मेंस रेंज का नाम ग्लो ऐंड हैंडसम होगा। कंपनी ने एक बयान में कहा है, 'अगले कुछ महीनों के दौरान, ग्लो एंड  लवली आपके घर उपलब्ध होगी।' इसी के साथ पिछले सप्ताह इस ब्रांड के नाम परिवर्तन को लेकर शुरू हुआ अटकलों का दौर समाप्त हो गया है। एचयूएल के इस बदलाव को भारत में फेयरनेस श्रेणी की सख्त जांच के बाद पूरा किया गया है।



प्रतिस्पर्धी लॉरियल के कॉस्मेटिक गु्रप के मुख्य कार्याधिकारी जीन-पॉल एगॉन ने इस सप्ताह शेयरधारकों की बैठक में निवेशकों को बताया कि लॉरियल भी कुछ उत्पादों के लिए 'व्हाइट' की जगह 'ग्लो' नाम देगी। एगॉन ने कहा, 'हम बदल रही जरूरतों और दृष्टिकोण को ध्यान में रखकर अपनी शब्दावली को अपना रहे हैं। लंबे समय से इन उत्पादों को व्हाइटनिंग, या फेयरनेस कहा जा रहा था, और स्थानीय उपभोक्ताओं द्वारा इन्हें कम पसंद किया जा रहा था।' इसी तरह का नजरिया इस सप्ताह हुई 87वीं सालाना आम बैठक में एचयूएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक संजीव मेहता ने व्यक्त किया। मेहता ने कहा कि फेयर ऐंड लवली सौंदर्य की परिभाषा के दायरे से दूर हो रही थी। शेयरधारकों द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'वर्ष 2019 में, हमने फेयर ऐंड लवली को पुन: पेश किया था, जिसमें मुख्य जोर रेडिएंस और ग्लो पर दिया गया था।' उन्होंने कहा, 'यह एक तर्कसंगत कदम था जिसमें ब्रांड नाम में 'फेयर' शब्द हटाया गया।' पैकेजिंग से भी फेयर ऐंड लवली के दृष्टिकोण में बदलाव का पता चलता है।


इस बीच, निविया पर्सनल केयर उत्पादों की निर्माता जर्मन कंपनी बेयर्सडॉर्फ ने भी सौंदर्य के प्रति बदलते नजरिये को ध्यान में रखकर अपने वैश्विक और क्षेत्रीय स्किनकेयर पोर्टफोलियो की समीक्षा प्रक्रिया शुरू कर दी है। 'फेयर ऐंड हैंडसम' ब्रांड की बिक्री करने वाली इमामी ने भी कहा है कि वे सभी विकल्पों का आकलन कर रही है। इमामी के एक अधिकारी ने कहा, 'जिम्मेदार कॉरपोरेट नागरिक के तौर पर, हम ऐसे संपूर्ण दृष्टिकोण को ध्यान में रखकर काम करना चाहते हैं जो ग्राहकों की जरूरतें पूरी करने के लिए जरूरी हो।'


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक