मीडिया प्रोफेसर संजय द्विवेदी भारतीय जनसंचार संस्थान के महानिदेशक नियुक्त

 


नई दिल्ली।  मीडिया प्रोफेसर संजय द्विवेदी को प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) का महानिदेशक (डायरेक्टर जनरल) नियुक्त किया गया है। कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने तीन साल की अवधि के लिए उनकी नियुक्ति को मंजूरी दी है। संजय द्विवेदी वर्तमान में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति हैं। इससे पहले वे विश्वविद्यालय के कुलसचिव की जिम्मेदारी निभा रहे थे। प्रो. द्विवेदी 10 वर्ष से अधिक समय तक विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष भी रहे हैं।



जानकारी के मुताबिक, पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) के प्रधान महानिदेशक के.एस. धतवालिया ही फिलहाल एक जून, 2019 से आईआईएमसी के डीजी पद का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे थे। उल्लेखनीय है कि प्रो. संजय द्विवेदी लंबे समय तक सक्रिय पत्रकारिता में रहे हैं। उन्हें प्रिंट, बेव और इलेक्ट्रॉनिक, तीनों ही मीडिया में कार्य करने का वृहद अनुभव है। उन्होंने ‘दैनिक भास्कर’, ‘हरिभूमि’, ‘नवभारत’, ‘स्वदेश’, ‘इंफो इंडिया डाट काम’ और छत्तीसगढ़ के पहले सेटलाइट चैनल ‘जी-24 छत्तीसगढ़’ जैसे मीडिया संगठनों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां संभाली। मुंबई, रायपुर, बिलासपुर और भोपाल में लगभग 14 साल सक्रिय पत्रकारिता में रहने के बाद प्रो. द्विवेदी शिक्षा क्षेत्र से जुड़े। फरवरी-2009 में वे विश्वविद्यालय से जुड़े थे। विश्वविद्यालय में उन्होंने विभागाध्यक्ष एवं कुलसचिव जैसे महत्वपूर्ण पदों कार्य किया।


प्रो. द्विवेदी 12 वर्षों से नियमित जनसंचार के सरोकारों पर केंद्रित पत्रिका ‘मीडिया विमर्श’ के कार्यकारी संपादक भी हैं। विभिन्न समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नियमित तौर पर राजनीतिक, सामाजिक और मीडिया के मुद्दों पर लेखन करते हैं। भारतीय जनसंचार संस्थान  केंद्र सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन आता है।  इसका उद्घाटन 17 अगस्त 1965 को तत्कालीन सूचना एवं प्रसारण मंत्री इंदिरा गांधी ने किया था।  शुरुआती दिनों में संस्थान  में सिर्फ इंफॉर्मेशन सर्विस ऑफिसर्स की ट्रेनिंग होती थी।  इसके बाद 1969 में पीजी डिप्लोमा कोर्स इन जर्नलिज्म फॉर डेवलपिंग कंट्रीज शुरू किया गया।  ये कोर्स खासकर अफ्रो-एशियन देशों के वर्किंग जर्नलिस्ट के लिए शुरू किया गया था।  धीरे-धीरे इसका दायरा बढ़ता गया।  आज संस्थान  से रेडियो एंड टीवी जर्नलिज्म, हिंदी जर्नलिज्म, इंग्लिश जर्नलिज्म, एडवरटाइजमेंट एंड पब्लिक रिलेशन, ओड़िया और उर्दू जर्नलिज्म में पीजी डिप्लोमा कोर्स कराया जाता है। इसे  मौजूदा वक्त में देश के टॉप जर्नलिज्म इंस्टीट्यूट्स में गिना जाता है। 


 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप