कोरोना संक्रमित पत्रकार ने एम्स की चौथी मंजिल से कूदकर जान दी, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने दिए जांच के आदेश

नई दिल्ली। दिल्ली स्थित ‘अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान’ (एम्स) की चौथी मंजिल से कूदकर सोमवार को एक पत्रकार ने आत्महत्या कर ली। पत्रकार की पहचान तरुण सिसोदिया के रूप में हुई है। करीब 34 वर्षीय तरुण दिल्ली में दैनिक भास्कर अखबार में बतौर रिपोर्टर कार्यरत थे। तरुण पिछले दिनों कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आ गए थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दिल्ली के भजनपुरा निवासी तरुण को 24 जून को एम्स के ट्रॉमा सेंटर की चौथी मंजिल पर स्थित कोविड-19 वार्ड में भर्ती कराया गया था। सोमवार की दोपहर करीब दो बजे तरुण एम्स की चौथी मंजिल से कूद गए। इस घटना में वह बुरी तरह घायल हो गए। गंभीर हालत में तरुण को आईसीयू में भर्ती कराया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया।



केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने एम्स निदेशक को तुरंत इस घटना की आधिकारिक जांच करने का आदेश दिया, जिसके बाद उन्होंने उच्च-स्तरीय समिति का गठन किया।  यह समिति 48 घंटों के भीतर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। 


बताया जाता है कि मूल रूप से बुलंदशहर के रहने वाले तरुण पिछले दिनों कोरोना की चपेट में आ गए थे, जिस कारण वह काफी तनाव में चल रहे थे। करीब तीन साल पहले ही तरुण की शादी हुई थी। उनके दो बेटियां हैं, जिनमें से एक की उम्र 2 साल है और दूसरे की उम्र मात्र कुछ ही महीने है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वह काफी दिनों से अपने घर पर ही थे। उन्होंने पिछले कुछ दिनों में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों को लेकर ही रिपोर्टिंग की थी। अपनी खबर में तरुण ने बताया था कि दिल्ली सरकार कह रही है कि अब तक 982 मौत कोरोना से हुई है, जबकि 1500 से ज्यादा डेडबॉडी का अंतिम संस्कार श्मशान और कब्रिस्तानों में हो चुका है। 


रिपोर्ट के  मुताबिक 37 वर्षीय तरुण ट्रॉमा सेंटर-1 से बाहर चले गए थे जहां उन्हें भर्ती कराया गया था।  इसके बाडी वह चौथी मंजिल पर गए, जहां उन्होंने खिड़की के शीशे तोड़े और बाहर कूद गए। उन्हें तुरंत आई सी यू में ले जाया गया था, जहां उन्होंने बाद में दम तोड़ दिया। 


केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ट्वीट करते हुए लिखा, युवा पत्रकार तरुण सिसोदिया जी के निधन से गहरा सदमा पहुंचा है।  यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।  मेरे पास अपना दुख व्यक्त करने के लिए कोई शब्द नहीं है।  उनके पूरे परिवार, उनकी पत्नी और छोटे बच्चों के प्रति मेरी संवेदना है। 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप