डब्ल्यूएचओ की प्रति दिन 10 लाख की आबादी पर 140 कोविड जांच की सलाह

 


नई दिल्ली। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन-डब्‍ल्‍यूएचओ ने कोविड-19 के संदर्भ में सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को समायोजित करने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य मानदंड पर अपने नोट में संदिग्ध मामलों के लिए व्यापक निगरानी की सलाह दी है। व्यापक निगरानी और संदिग्ध मामलों के परीक्षण की अवधारणा की व्याख्या करते हुए, डब्ल्यूएचओ ने सलाह दी है कि देश में प्रति 10  लाख की आबादी पर प्रति दिन 140 जांच होनी चाहिए। केन्‍द्र और राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा किए गए विभिन्न समन्वित प्रयासों के साथ, भारत में 22 राज्य/ केंद्र शासित प्रदेश पहले से ही प्रति दिन दस लाख की आबादी पर 140 से अधिक कोविड जांच संचालित कर रहे हैं। डब्ल्यूएचओ के सुझाव के अनुरूप परीक्षण क्षमता बढ़ाने के लिए राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेशों को नियमित रूप से सलाह दी जा रही है।



देश में कोविड-19 की जांच के लिए प्रयोगशालाओं का लगातार बढ़ता नेटवर्क परीक्षणों की बढ़ती संख्या में मदद कर रहा है। मौजूदा समय में देश में सरकारी क्षेत्र की 865 और निजी क्षेत्र की 358  प्रयोगशालाओं के साथ कुल परीक्षण प्रयोगशालाओं की संख्या 1223 है। परीक्षण के लिए सबसे उत्‍तम माने जाने वाले आरटी –पीसीआर परीक्षण के अलावा ट्रूनेट और सीबीएनएएटी का इस्‍तेमाल भी परीक्षण सुविधाओं को बढ़ाने के लिए किया जा रहा है। 


•रियल टाइम आरटी-पीसीआर आधारित प्रयोगशालाएं :कुल 633 (सराकारी: 391 + निजी: 242)


• ट्रूनैट आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: कुल491 (सरकारी: 439 + निजी: 52)


• सीबीएनएएटी आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: कुल 99 (सरकारी: 35 + निजी: 64)


प्रयोगशालाओं की संख्‍या में लगातार बढ़ोत्‍तरी देखी जा रही है। जनवरी 2020 में जहां एक प्रयोगशाला थी वही मार्च 2020 में बढ़कर 121 हो गईं और अब इनकी संख्‍या 1223 हो चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड का पता लगाने के लिए  3,20,161 नमूनों का परीक्षण किया गया है। अब तक परीक्षण किए गए नमूनों की कुल संख्या 1,24,12,664 हो चुकी है। भारत में प्रति दस  लाख की आबादी पर परीक्षण की दर लगातार बढ़ रही है। आज यह आंकड़ा 8994.7 को छू चुका है। 14 जुलाई 2020 कोएक ही दिन में 3.2 लाख से अधिक परीक्षण किए गए थे।


 



Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप