छेड़छाड़ की शिकायत करने पर गाजियाबाद में पत्रकार की गोली मारकर हत्या

9 आरोपी हथियारों समेत गिरफ्तार, सरकार ने मानी परिवार की मांग- 10 लाख की आर्थिक सहायता, पत्नी को नौकरी, बच्चों को निशुल्क शिक्षा 


नई दिल्ली। दिल्ली से सटे गाजियाबाद में सोमवार की रात बदमाशों ने एक पत्रकार पर गोली मारी थी, क्योंकि उसने 16 जुलाई को भांजी के साथ हुई छेड़छाड़ की शिकायत की थी। बुधवार की सुबह घायल पत्रकार ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। पत्रकार विक्रम जोशी पर गोली चलाए जाने के मामले में मंगलवार तक पुलिस ने नौ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। वहीं, चौकी इंचार्ज समेत दो पुलिस कर्मियों को लापरवाही बरतने पर सस्पेंड भी कर दिया गया है। घटना के बाद परिवार वालों ने पत्रकार का शव लेने से इनकार कर दिया था। इस मामले में गाजियाबाद की एएसपी कालनिधि नैतनी ने कहा कि मुख्य आरोपी रवि और छोटू समेत 9 लोगों गिरफ्तार कर लिया गया है। 



 


धरने पर बैठे लोगों की बात मानते हुए राज्य सरकार ने 10 लाख की आर्थिक सहायता, पत्नी को नौकरी, बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने का आश्वासन दिया है। फिलहाल धरना खत्म हो गया है। 


दरअसल, गाज़ियाबाद में पत्रकार ने अपनी भांजी के छेड़ने की तहरीर पुलिस को दी थी। पुलिस ने ना उसमें कार्रवाई की और ना ही किसी की गिरफ्तारी की। इसके बाद तहरीर देने से नाराज़ बदमाशों ने सोमवार की देर रात पत्रकार को गोली मार दी। थाना विजयनगर क्षेत्र के अंतर्गत हुई घटना के संबंध में एसपी सिटी ने बताया  कि इस घटना के मुख्य आरोपी रवि सहित अन्य को गिरफ्तार किया गया है। बताते चले कि घटना की एक सीसीटीवी फुटेज सामने आई है, जिसमें देखा जा सकता है कि पांच-छह बदमाश जोशी को घेरकर मार रहे हैं, तभी एक दूसरा अपराधी आता है, और उनके सिर में बिल्कुल करीब से गोली मार देता है। गोली लगने के बाद जोशी जमीन पर गिर जाते हैं और बदमाश भाग जाते हैं। जिसके तुरंत बाद उनकी बेटी पास में आती है और घबराई हुई मदद के लिए चिल्लाती है।


विक्रम जोशी का कसूर बस इतना था कि उनकी भांजी को लगातार छेड़ा जा रहा था और उन्होंने उन बदमाशों के खिलाफ थाने में शिकायत दी थी। तहरीर देने से नाराज बदमाशों ने सोमवार रात विक्रम को गोली मार दी। विक्रम के सिर में गोली लगी, वह गंभीर हालत में यशोदा अस्पताल में भर्ती थे। परिजनों का भी कहना है कि अगर विक्रम की तहरीर पर कार्रवाई होती तो आज यह घटना ना होती। विक्रम की भांजी को लगातार छेड़ा जा रहा था और उसके बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।


कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने विक्रम जोशी की हत्या के बाद योगी सरकार को कटघरे में खड़ा किया है। सुरजेवाला ने कहा, गाजियाबाद में अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ का विरोध कर रहे पत्रकार विक्रम जोशी की निर्मम हत्या ने पूरे उत्तर प्रदेश में गुंडाराज का चेहरा बेनकाब कर दिया है। 


विक्रम जोशी की मौत के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर उनके परिवार से सांत्वना जताई है। राहुल ने ट्वीट में लिखा, 'अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या कर दी गयी। शोकग्रस्त परिवार को मेरी सांत्वना। वादा था राम राज का, दे दिया गुंडाराज।'


पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी पत्रकार विक्रम जोशी की मौत पर शोक जताया है और कई सवाल भी उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट किया, 'मैं निडर पत्रकार विक्रम जोशी की मौत पर शोक व्यक्त करती हूं। उन्हें यूपी में अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए मारा गया। देश में डर का माहौल पैदा किया जा रहा है। आवाजों को दबाया जा रहा है। पत्रकारों को भी बख्शा नहीं जा रहा। स्तब्ध हूं।'


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!