भारत के बाद अब अमेरिका भी बैन करेगा चीनी ऐप


नई दिल्ली। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पेयो ने कहा है कि अमेरिका टिक टॉक समेत अन्य कई चीनी सोशल मीडिया ऐप पर प्रतिबंध लगाने के बारे में विचार कर रहा है। भारत की ही तरह अमेरिका का भी कहना है कि चीन सोशल मीडिया ऐप का इस्तेमाल अमेरिकी नागरिकों के डाटा को चोरी करने के लिए कर रहा है।  जब अमेरिकी टीवी चैनल फॉक्स न्यूज पर विदेश मंत्री माइक पॉम्पेयो से पूछा गया कि क्या अमेरिकी प्रशासन भी चीनी ऐप और खास कर टिक टॉक पर प्रतिबंध लगाने के बारे में सोचेगा, तो उनका जवाब था, "हम इसे बहुत संजीदगी से ले रहे हैं।  हम बेशक इस पर ध्यान दे रहे हैं।"



पॉम्पेयो ने कहा कि अमेरिका "लंबे समय से" चीनी तकनीक से जुड़ी समस्याओं पर काम कर रहा है, "जहां तक बात लोगों के सेलफोन पर चीनी ऐप की है, तो मैं आप को सुनिश्चित कर सकता हूं कि अमेरिका इसे भी ठीक कर देगा। " टिक टॉक के बारे में बात करते हुए पॉम्पेयो ने कहा कि अमेरिकी लोगों को चीनी कंपनी के शॉर्ट वीडियो ऐप इस्तेमाल करते वक्त सतर्क रहने की जरूरत है।  जब उनसे पूछा गया कि क्या वे लोगों को टिक टॉक डाउनलोड करने की सलाह देंगे, तो उन्होंने कहा, "ऐसा सिर्फ तब ही कीजिए, अगर आप चाहते हैं कि आपकी निजी जानकारी चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी के हाथों लगे।"


पॉम्पेयो के इस बयान के बाद जब टिक टॉक से प्रतिक्रिया मांगी गई, तो टिक टॉक ने ईमेल के जरिए बयान जारी कर कहा, "अपने यूजर को एक सुरक्षित ऐप देने से बड़ी हमारी और कोई प्राथमिकता नहीं है।  हमने कभी चीनी सरकार को कोई यूजर डाटा नहीं दिया है और ना ही अगर हमसे कभी ऐसा करने को कहा भी जाए, तो हम ऐसा करेंगे।"


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप