अमिताभ के बीमार होने के बाद केबीसी के 12वें सीजन पर संकट के बादल

मुंबई। बॉलीवुड एक्‍टर अमिताभ बच्‍चन के बीमार होने के बाद गेम शो कौन बनेगा करोड़पति के 12वें सीजन पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। अमिताभ एहतियात पूर्ण तरीके से केबीसी के सीजन 12 के लिए कुछ वक्‍त न‍िकाल रहे थे और रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के लिए घर से ही सवाल शूट किए थे। अब जब उन्‍हें कोरोना ने चपेट में ले लिया है तो र‍ियलिटी शो केबीसी के 12वें सीजन पर संकट के बादल द‍िखाई दे रहे हैं। ऐसे में केबीसी के तय समय पर शुरू होने पर संशय बना हुआ है।



अमिताभ बच्‍चन के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद उनके प्रोजेक्‍ट्स अधर में लटक गए हैं। लॉकडाउन के चलते उनके प्रोजेक्‍ट्स में वैसे ही देरी हो रही थी। अमिताभ को शनिवार को नानावटी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। उसके बाद उनके बेटे अभिषेक बच्‍चन, बहू ऐश्‍वर्या राय बच्‍चन और पोती अराध्‍या बच्‍चन की र‍िपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। अमिताभ के घर के 50 से अधिक स्‍टॉफ को क्‍वारंटीन कर दिया गया है, वहीं उनके चारों बंगले (प्रतीक्षा, जलसा, वत्‍स और जनक) सेनिटाइज किए गए हैं। पूरे देश में अमिताभ बच्‍चन की सलामती की दुआ मांगी जा रही है। कई मंदिरों में उनके फैंस ने प्रार्थना भी की है। 


वहीं शूटिंग के न‍ियमों के अनुसार, फ‍िल्‍मों और सीरियल्‍स के सेट पर भी 65 वर्ष से अधिक के कलाकारों को बुलाना या उनका जाना मना है। ऐसे में अगर केबीसी की प्रक्रिया पूरी भी हो गई तो 77 साल के अमिताभ बच्‍चन का सेट पर जाना मुश्‍किल होगा। कोरोना से जंग जीतने के बाद भी काफी वक्‍त तक उन्‍हें अपने घर में रहना होगा। ऐसे में केबीसी की प्रक्रिया पूरी कैसे होगी, यह देखने वाला होगा। वहीं अमिताभ के बिना केबीसी फैंस को अधूरा लगता है। ऐसे में मेकर्स को कोई रास्‍ता निकालना होगा।


अमिताभ बच्‍चन ने इस शो के अब तक 10 सीजन होस्‍ट किए हैं। केवल केबीसी 3 को शाहरुख खान ने होस्‍ट‍ किया था। तीन जुलाई 2000 को शुरू हुए केबीसी के अब तक 11 सीजन आ चुके हैं और इस बार 12वां सीजन टीवी पर आएगा। सोनी चैनल के सीईओ एनपी सिंह ने कुछ समय पहले बीबीसी को बताया था कि उनकी कोशिश है केबीसी तय समय पर पूरा हो, लेकिन यह बात तक की है जब अमिताभ एक दम ठीक थे।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक