आदित्य ठाकरे से दोस्ती के कारण करण जौहर को बचाने की कोशिश- कंगना

मुंबई। अभिनेत्री कंगना ने एक बार फिर मुखर होकर बयान दिया है। कंगना का कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत की खुदकुशी के मामले में मुंबई पुलिस करण जौहर को बचाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि चूंकि करण जौहर की मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे से दोस्ती है, इस वजह से शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी सरकार करण को बचाने की कोशिश कर रही है। यह बात टीम कंगना ने सुमित ठाकुर नाम के ट्विटर यूजर के पोस्ट पर कमेंट करते हुए कही है। कंगना खुद सोशल मीडिया में नहीं हैं और @KanganaTeam नामक ट्विटर हैंडल से वे अपना पक्ष रखती रहती हैं। वहीं आदित्य ठाकरे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और राज्य सरकार में मंत्री हैं। टीम कंगना ने कहा है, “वे उन्हें कभी नहीं बुलाएँगे, क्योंकि वे आदित्य उद्धव ठाकरे के बेस्ट फ्रेंड हैं। यह उनकी सरकार है और उन्होंने कंगना के इंटरव्यू से पहले ही यह केस बंद कर दिया। यह इस बात का सबूत है कि वे अपने दोस्तों को बचा रहे हैं।”



हालांकि  महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख कह चुके हैं कि अगर जरूरत हुई  तो खुद करण जौहर को भी हाजिर होने को कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जाँच से पता चलेगा कि क्या फिल्म इंडस्ट्री में गुटबाजी है, जो फिल्म उद्योग में लोगों के उत्पीड़न का कारण बनता है, जैसा कि कंगना ने आरोप लगाया है।


सोशल मीडिया पर कई लोगों ने टीम कंगना के बयान का समर्थन किया है। इससे पहले यह खबर आई थी कि इस मामले में मुंबई पुलिस ने पूछताछ के लिए करण जौहर के मैनेजर को बुलाया है। गायक सोनू निगम ने भी कंगना की सराहना की है। उन्होंने कहा कि कंगना इतनी मजबूत हैं, तभी वो अपने मन की बात इतने सही तरीके से बोल पाती हैं। सोनू निगम ने कहा कि उनके मन में कंगना के लिए काफी सम्मान है, क्योंकि पिछले 4-5 वर्षों से वो जो कर रही हैं, उसके लिए सोच में स्पष्टता होनी ज़रूरी है और साहस भी होना चाहिए। उन्होंने कंगना के उस आरोप का भी समर्थन किया, जिसमें उन्होंने महेश भट्ट पर चप्पल फेंकने का आरोप लगाया था।


बता दें कि फ़रवरी 2020 में कंगना की बहन रंगोली चंदेल फ़िल्म निर्माता एवं निर्देशक महेश भट्ट से जुड़ा एक वाकया बताया था। महेश भट्ट चाहते थे कि कंगना रनौत उनकी फ़िल्म में फिदायीन यानी आत्मघाती हमलावर का किरदार अदा करें। कंगना को ये रोल पसंद नहीं आया और उन्होंने इनकार कर दिया। महेश इस बात से इतने आग-बबूला हो गए कि उन्होंने कंगना को चप्पल दे मारी।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!