सुशांत की आखिरी फिल्म 'दिल बेचारा' को डिज़िटल प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ करने से प्रशंसक मायूस

मुंबई। सुशांत सिंह राजपूत की आख़िरी फ़िल्म 'दिल बेचारा' डिज़िटल प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ होने जा रही है, लेकिन इस फ़ैसले से उनके कई प्रशंसक ख़ुश नहीं हैं। इनकी माँग है कि इस फ़िल्म को थिएटर में रिलीज किया जाना चाहिए। फ़िल्म डिज्नी हॉटस्टार पर 24 जुलाई को आएगी। सुशांत सिंह राजपूत के दोस्त विकास गुप्ता ने भी इन प्रशंसकों की मांग का समर्थन किया है और फ़िल्म मेकर्स से गुज़ारिश की है कि वे सुशांत की फ़िल्म को सिनेमाघरों में रिलीज़ करने के बारे में विचार करें।



विकास ने ट्वीट किया, "भारत 'दिल बेचारा' को 70 एमएम पर्दे पर देखना चाहता है। फॉक्सस्टार हिंदी से गुज़ारिश है कि जब भी थिएटर खुलें, वे इस फ़िल्म को तब रिलीज़ करें। सुशांत सिंह राजपूत की फ़िल्म को थिएटर में रिलीज़ न करना प्रशंसकों का दिल तोड़ना होगा।" दिल बेचारा एक हॉलीवुड फिल्म की रीमेक है. फिल्म में सुशांत के साथ संजना सांघी मुख्य भूमिका में हैं।


डिज़्नी हॉटस्टार ने रिलीज़ के बारे में ट्वीट करते हुए लिखा है कि ये सुशांत सिंह राजपूत की विरासत का जश्न है। इस बीच, अभिनेता राजकुमार राव ने कहा है कि वो सुशांत की फिल्म 'दिल बेचारा' को प्रोमोट करेंगे। राजकुमार ने अपने इंस्टाग्राम अकांउट पर फिल्म के पोस्टर को शेयर किया। सुशांत की डेब्यू फिल्म 'काय पो छे' और बाद में 'राब्ता' में उनके साथ काम कर चुके राजकुमार ने पोस्टर को एक रेड हार्ट इमोजी के साथ शेयर किया है।


जाने माने संगीतकार एआर रहमान ने भी फ़िल्म की रिलीज़ की ख़बर को सुशांत की विरासत का उत्सव कहा है। लेकिन सोशल मीडिया पर कुछ लोग फिल्म को ओटीटी पर रिलीज किए जाने के फ़ैसले से ख़ुश नहीं हैं और उन्होंने कुछ समय तक के लिए ही सही, लेकिन फ़िल्म को सिनेमाघरों में रिलीज किए जाने की मांग की है। ट्विटर पर भी कई लोगों ने फ़िल्म को बड़े पर्दे पर रिलीज़ करने की मांग की है।


 आपको बता दें कि सुशांत 14 जून को अपने बांद्रा स्थित आवास पर मृत पाए गए थे। पुलिस का कहना है कि सुशांत ने आत्महत्या की है, लेकिन इसकी वजह अब तक सामने नहीं आई है। ये भी बताया जा रहा है कि पिछले छह महीने से वह डिप्रेशन से लड़ रहे थे।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक