फिल्म निर्माताओं को सिर्फ इनडोर शूटिंग की इजाजत, आउटडोर शूट की इजाज़त का आग्रह

 


मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने फिल्म मेकर्स और प्रोड्यूसर्स को इनडोर शूटिंग करने की इजाजत दे दी है। लेकिन फिल्म उद्योग से जुड़े ज्यादातर लोगों ने इस अनुमति पर भी अनेक सवाल खड़े कर दिए हैं। फिल्म निर्माताओं का कहना है कि जब तक आउटडोर शूट की अनुमति नहीं मिलती, तब तक फिल्म इंडस्ट्री की गाड़ी पटरी पर नहीं आ पायेगी। 



इनडोर शूटिंग के साथ कई तरह की परेशानियां का सामना भी करना पड़ा सकता है। जाहिर है कि टीवी शो की शूटिंग करने वाले मेकर्स को इससे ज्यादा परेशानियां का सामना नहीं करना पड़ेगा। क्योंकि टीवी शो में अक्सर इनडोर की शूटिंग ही करनी पड़ती है लेकिन जो बड़े बजट की फिल्में होती है जैसे पीरियड ड्रामा, ट्रेवल बेस्ड फिल्मों के लिए इनडोर शूटिंग करना बहुत ही टेढ़ी खीर है।ऐसी फिल्मों की शूटिंग के लिए तो आउटडोर सेट्स की जरूरत होती है। तो ऐसे में इनडोर शूटिंग मेकर्स को ज्यादा फायदा नहीं बल्कि मुसीबत लेकर आया है। संजय लीला भंसाली जैसे फिल्म मेकर्स की फिल्में ज्यादातर पीरियड ड्रामा होती है जिसके लिए बड़े बड़े सेट का निर्माण करना होता। इसके लिए उनको आउटडोर शूट की जरूरत होगी, बड़े महल और किलों की जरूरत होती है। ऐसे में बड़े महल और किलों का निर्माण स्टूडियों में करवाना संभव नहीं हो सकेगा। इसकी वजह से अब ऐसी फिल्मों का निर्माण करने वालों को आउटडोर शूटिंग की इजाजत मिलने तक अपनी फिल्मों की शूटिंग को रोक कर रखना होगा। इनडोर शूट से थोड़ी बहुत ही राहत मिल पाई है। हालांकि अब ये देखना है कि आउटडोर शूट करने के लिए मेकर्स और प्रोड्यूसर्स को कितना लंबा इंतजार करना होगा।


कोरोना वायरस कहर की वजह से देश में लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। जिसके बाद से पूरा देश रूक सा गया था। सारी इंडस्ट्री और हवाई यात्रा रेल यात्र पूरी तरह से बंद कर दी गई थी। बाकी इंडस्ट्री की तरह ही फिल्म इंडस्ट्री में भी ताला लग गया था। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 19 मार्च से देश में किसी भी तरह की शूटिंग नहीं की जा रही थी। लगातार चार बार लॉकडाउन के बढ़ने के बाद अब धीरे-धीरे ही सही पर अब काम शुरू होने लगा है। 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप