कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए कोशिश करने का डब्लूएचओ का आग्रह

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनिया के देशों से कोरोना वायरस को काबू में करने के लिए आग्रह किया है। दुनियाभर में कोरोना मामले 70 लाख से अधिक हो गए हैं और अब तक 4,03,009 लोगों की जान जा चुकी है। इस वक्त 210 देशों और क्षेत्रों में संक्रमण के मामले मौजूद हैं। पिछले साल दिसंबर में चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस का अब तक टीका नहीं मिल पाया है। डब्ल्यूएचओ महानिदेशक तेद्रोस अधानोम गैब्रेयेसुस ने ऑनलाइन प्रेस वार्ता में कहा, "महामारी के छह महीने से अधिक समय बीतने के बाद किसी भी देश के लिए यह समय राहत देने वाला नहीं है।"



रविवार 7 जून को दुनियाभर में 1,36,000 से अधिक नए मामले दर्ज किए गए। यह एक दिन में कोरोना के सर्वाधिक मामले हैं। करीब 75 फीसदी मामले 10 देशों में दर्ज किए जिनमें ज्यादातर अमेरिका और दक्षिण एशिया के देश शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ के इमरजेंसी प्रोग्राम के विशेषज्ञ डॉ माइक रायन से जब चीन से जुड़ा सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि महामारी कैसे फैली इस पर शोध के लिए इंतजार किया जा सकता है। उन्होंने कहा, "हमें अब इस पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है कि हम आज दूसरी लहर को रोकने के लिए क्या कर रहे हैं।" रायन ने साथ ही कहा कि मध्य अमेरिकी देश जिनमें ग्वाटेमाला शामिल है, वहां संक्रमण अभी भी बढ़ रहा है और वह "जटिल" महामारी है। उन्होंने कहा कि यह अत्यधिक चिंता का विषय है। संगठन ने सरकार के मजबूत नेतृत्व और अंतरराष्ट्रीय समर्थन के लिए आह्वान किया है। 


ब्राजील अब महामारी का एक हॉटस्पॉट बन चुका है। अमेरिका के बाद ब्राजील में ही सबसे अधिक मामलों की पुष्टि हुई है। पिछले हफ्ते ब्राजील ने महामारी से मरने वालों की संख्या के मामले में इटली को पीछे छोड़ दिया था। ब्राजील मौत के आंकड़ों को लेकर भी भ्रामक तस्वीर पेश कर रहा है। ब्राजील ने कोरोना वायरस से हुई मौत के आंकड़े राष्ट्रीय वेबसाइट से हटा दिए थे और इसके बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने और भ्रम फैला दिया जब उसने दो विरोधाभासी आंकड़े जारी कर दिए। रायन का कहना है कि ब्राजील का डाटा अब तक "बेहद विस्तृत" रहा है, लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा ब्राजीलियाई लोगों के लिए यह समझना जरूरी है कि वायरस कहां है और जोखिम का प्रबंधन कैसे करना है। 


अमेरिकी की जॉन्स हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी के मुताबिक अभी अमेरिकी कोरोना वायरस के संक्रमण और मृत्यु के मामले में पहले स्थान पर है। इसके बाद ब्राजील सात लाख मामलों के साथ दूसरे स्थान पर है। पांच सबसे प्रभावित देशों में रूस, ब्रिटेन और भारत हैं।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!