छह महीने से डिप्रेशन में थे सुशांत,10 दिन पहले मां के नाम लिखी थी आखिरी पोस्ट


मुंबई। टीवी से अपने करियर की शुरुआत करने वाले सुशांत सिंह राजपूत ने हाल के सालों में बड़े पर्दे पर अपनी उल्लेखनीय मौजूदगी दर्ज की थी। वो बिहार के ही पूर्णिया ज़िले के रहने वाले थे। सुशांत एक मध्यमवर्गीय पारिवारिक पृष्ठभूमि से आते थे।  उन्होंने काफ़ी संघर्ष के बाद बॉलीवुड तक का सफ़र तय किया था। उनके पिता पूर्णिया में ही खेती-किसानी करते हैं। उनके एक चाचा नीरज कुमार बबलू बिहार में बीजेपी के विधायक हैं।



दस दिनों पहले उन्होंने इंस्टाग्राम पर मां के साथ तस्वीर डाली थी। उनका जन्म बिहार के पटना में 21 जनवरी, 1986 को हुआ था। सुशांत ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद अपने सपनों को पूरा करने के लिए एक्टिंग की तरफ रुख किया था। 


शुरुआत में उन्होंने बैकअप डांसर के तौर पर काम किया. इसके बाद किस देश में है मेरा दिल नामक सीरियल में उन्हें एक्टिंग का पहला ब्रेक मिला. इसके बाद पवित्र रिश्ता ने सुशांत को घर-घर का चहेता बना दिया। कामयाबी के कदम चढ़ते हुए सुशांत ने डांस रिएलिटी शो ज़रा नच के दिखा और झलक दिखला जा में भी हिस्सा लिया। इसके बाद सुशांत को फिल्मी दुनिया में एंट्री मिली, जहां उन्हें 'काय पो चे' फिल्म में एक अहम रोल मिला। 


सुशांत की मां का देहांत बहुत पहले हो चुका था। जब सुशांत 16 साल के थे, उसी वक्त उनकी मां चल बसी थी।  वे अपनी मां के बहुत करीब थे। वे कई बार सोशल मीड‍िया पर मां के प्रति प्रेम को जता चुके हैं। बॉलीवुड के उभरते सितारों में से एक एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने  रव‍िवार को मुंबई में अपने घर में ख़ुदकुशी कर ली। घर में उनका शव पंखे से लटकता मिला।  घर के नौकर ने फोन कर पुलिस को इसकी जानकारी दी। फिलहाल, आत्महत्या के किसी कारण का पता नहीं चला ह।  एक्टर सोशल मीड‍िया पर पिछले कुछ समय से एक्ट‍िव थे।  उनका आख‍िरी पोस्ट अपनी मां के नाम है। 


एक्टर ने लिखा- 'आंसुओं से वाष्पित होता अतीत, मुस्कुराहट के एक आर्क को उकेरते सपने और एक क्षणभंगुर जीवन, दोनों के बीच बातचीत'।


बता दें सुशांत बांद्रा के घर में अकेले रहते थे।  उनके सुसाइड को लेकर पुलिस पड़ोसियों से बयान ले रही है।  जानकारी ये भी है कि सुशांत छह महीने से डिप्रेशन में थे, लेक‍िन वे आत्महत्या जैसा कदम उठा लेंगे इसका किसी को अंदाजा नहीं था।  खबर है कि दरवाजा तोड़कर उनके दोस्त अंदर पहुंचे।  वहां उन्होंने सुशांत को पंखे से लटकता पाया।  तुरंत पुलिस को इसकी जानकारी दी गई। 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप