सेलिब्रिटी फिल्म पत्रकार के तौर पर पहचान बनाई थी गुलशन ईविंग ने

 


मुंबई। नब्बे के दशक की मशहूर फिल्म पत्रकार गुलशन ईविंग ने एक सेलिब्रेटी फिल्म पत्रकार  के तौर पर अपनी पहचान बनाई थी। गुलशन ईविंग की पिछले दिनों लन्दन में कोरोना वायरस से मौत हो गई थी। बीबीसी डॉट कॉम की रिपोर्ट के अनुसार  गुलशन ईविंग 92 साल की थीं जब उनकी रिचमंड में एक रेजिडेंशियल केयर में मौत हो गई । उनकी बेटी अंजली ईविंग ने उनके गुजरने की जानकारी दी। अपनी उम्र के बावजूद गुलशन को पहले से कोई भी बीमारी नहीं थी। ईविंग एक हफ्ते से बीमार थीं और 18 अप्रैल को उनकी सांसें थम गईं।  मौत के एक दिन बाद आए उनके टेस्ट रिजल्ट से यह पता चला कि वह कोरोना वायरस का शिकार थीं। 



बेटी अंजलि के साथ गुलशन ईविंग। 


ईविंग भारत की दो पॉपुलर मैगजीन्स की संपादक रही थीं।  वह महिलाओं की पत्रिका ईव्स वीकली और फिल्म मैगजीन स्टार एंड स्टाइल की 1966 से 1989 तक संपादक रहीं।  वह एक मशहूर संपादक थीं और खुद भी एक सेलिब्रिटी थीं। नोबल पुरस्कार प्राप्त लेखक वी एस नायपॉल ने अपनी किताब इंडियाः अ मिलियन म्यूटिनीज़ नाउ में उन्हें भारत की सबसे मशहूर महिला संपादक बताया था। भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी का सबसे लंबा इंटरव्यू करने का रिकॉर्ड भी गुलशन के नाम ही है । ईव्स वीकली की एडिटर के तौर पर उन्होंने कई युवा महिला पत्रकारों को खड़ा किया. भारत में महिलावादी आंदोलन ने भी 1970 के दशक में शक्ल लेना शुरू किया था और उस वक्त इस आंदोलन को आगे बढ़ाने में उनकी मैगजीन का बड़ा योगदान रहा। 


स्टार एंड स्टाइल की संपादक रहते हुए उन्होंने  बेहतरीन लोगों को नजदीकी से देखा।  उन्होंने इनमें से कईयों के इंटरव्यू किए, उनके बारे में लिखा और उनके साथ पार्टियां भी कीं। पिछले हफ्ते न्यूज़ वेबसाइट्स में उनके फोटोग्राफ्स छपे जिनमें वह हॉलीवुड  के लीजेंड्स ग्रेगरी पेक, कैरी ग्रैंट और रोजर मूर का इंटरव्यू लेती दिख रही थीं।  उनका अल्फ्रेड हिचकॉक के साथ डिनर करते, प्रिंस चार्ल्स के साथ बातें करते, ईवा गार्डनर के साथ पोज़ देते हुए और डैनी के को साड़ी पहनना सिखाते हुए के भी फोटो आए। 


बॉलीवुड में उनकी दोस्ती और भी गहरी थी।  राजेश खन्ना, दिलीप कुमार, शम्मी कपूर, देव आनंद, सुनील दत्त, नरगिस जैसे दिग्गजों के साथ उनके नजदीकी संबंध थे. यहां तक कि उन्होंने राज कपूर के साथ डांस भी किया था। मुंबई में एक पारसी परिवार में सन 1928 में उनका जन्म हुआ था। ईविंग आज़ाद भारत में उन कुछ महिलाओं में थीं जो पत्रकारिता से जुड़ी हुई थीं। 1990 में वह अपने पति के साथ लंदन शिफ्ट हो गईं।  उन्होंने 1955 में एक ब्रिटिश जर्नलिस्ट से शादी की थी। उन दोनों के दो बच्चे थे- बेटी अंजली और बेटा रॉय। 1990 में रिटायर होकर लंदन जाने के बाद उन्होंने पत्रकारिता और लिखना पूरी तरह से बंद कर दिया था।


 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक