कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट मिलने पर ही शूटिंग में शामिल हो सकेंगे क्रू मेम्बर्स

मुंबई। फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को लेटर लिखा है।  इस लेटर में फेडरेशन की तरफ से गाइडलाइन भेजी गई है और मीडिया और मनोरंजन उद्योग में काम फिर से शुरू करने के लिए स्टैण्डर्ड ऑपरेटिव प्रोसीजर (एस ओ पी ) जारी किया गया है। इसमें साफ़ किया गया है कि कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट मिलने पर ही क्रू मेम्बर्स शूटिंग में शामिल हो सकेंगे। फेडरेशन ने कहा है कि, उनके फेडेरेशन के तहत 5 लाख से ज्यादा लोग काम करते हैं ये मीडिया मनोरंजन उद्योग का सबसे बड़ा और पुराना संगठन है। संगठन से जुड़े सभी कर्मी लॉकडाउन के बाद अब कार्य करने के लिए उत्सुक हैं, इसलिए हमने काम को शुरू करने के लिए एक मसौदा तैयार किया है। 



ये है गाइडलाइन- शूटिंग के दौरान सभी तरह के जरूरी मेडिकल सुविधाएं रखना जरूरी होगा। शूटिंग के दौरान सदस्यों को स्टूडियो परिसर या होटल में तैनात किया जाना चाहिए, जब तक कि पूरी शूटिंग खत्म न हो जाए, तब तक यात्रा और बाहरी लोगों के संपर्क से बचें। क्रू मेबर्स को मास्क और ग्लव्स देने होंगे।  साथ ही सफाई के लिए अतिरिक्त व्यवस्था रखनी होगी। ये भी ध्यान रखना होगा कि, मेकअप आर्टिस्ट और हेयरड्रेसर एक अभिनेता पर एक बार ब्रश या दूसरे उपकरण का इस्तेमाल करने के बाद उसको सैनिटाइज करे। सभी सदस्यों को पर्सनल केयर साधन जैसे फेसमॉस्क, हैंड सैनिटाइजर प्रोड्यूसर दें। साथ ही प्रोड्यूसर को अपने सभी सदस्यों को अच्छे खान-पान की सुविधा देनी होगी। 


गाइडलाइन में यह भी कहा गया है कि पोस्ट प्रोडक्शन की गतिविधियों को कम से कम वर्कफोर्स के साथ किया जाना चाहिए। सभी सामानों को काम में लाने से पहले और बाद में साफ किया जाना चाहिए। सभी सदस्यों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा। यूनिट के सभी सदस्यों को कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट हासिल करना होगा, जिससे उन्हें शूट पर आने की अनुमति होगी। शूटिंग शुरू करने से पहले प्रोड्यूसर को बकाया राशि को देना होगा और शूटिंग के 30 दिन के अंदर काम होने के बाद पेमेंट करना होगा, जबकि रोजना काम करनेवालों को रोज पेमेंट करना होगा। हर सेट के लिए एंबुलेंस, डॉक्टर और नर्स की सुविधा रखना अनिवार्य होगा। काम करने के लिए 8 घंटे की दो शिफ्ट होगी और हर शिफ्ट में सदस्यों को बदलना होगा। अगर कोई सदस्य शूटिंग के दौरान या यात्रा के दौरान कोविड-19 पॉजिटिव पाया जाता है तो उनका इलाज प्राइवेट अस्पताल में कराना होगा. साथ ही 50 लाख तक का इंश्योरेंस कराना होगा। 
फेडरेशन ने इस दिशा-निर्देश को सरकार के पास अप्रूवल के लिए भेजा है, अगर सरकार इसे मान लेती है तो जल्द ही मीडिया और मनोरंजन उद्योग में काम फिर से शुरू हो जाएगा। जब से देशव्यापी लॉकडाउन हुआ है, तब से फ़िल्म  इंडस्ट्री का काम बंद पड़ा है। 


Popular posts from this blog

‘कम्युनिकेशन टुडे’ की स्वर्ण जयंती वेबिनार में इस बार ‘खबर लहरिया’ पर चर्चा

ऑडियो-वीडियो लेखन पर हिंदी का पहला निशुल्क पाठ्यक्रम 28 जनवरी से होगा शुरू

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिये मनोरंजन उद्योग में आए बदलावों पर चर्चा के लिए वेबिनार 19 को