आर्थिक तंगी से परेशान एक्टर मनमीत ग्रेवाल की खुदकुशी के बाद इंडस्ट्री सकते में


मुंबई। कोरोना वायरस के चलते लागू  लॉकडाउन की वजह से टीवी एक्टर मनमीत ग्रेवाल की खुदकुशी के बाद टीवी इंडस्ट्री के लोगों को झटका लगा है।  तमाम एक्टर उनकी खुदकुशी से सकते हैं।  देश में लॉकडाउन हुआ तो सारे काम बंद हो गए, टीवी सीरियल्स की शूटिंग बंद हो गई ऐसे में कई एक्टर्स पैसे की तंगी का सामना कर रहे हैं।  पैसों की तंगी की वजह से ही मनमीत ने इतना बड़ा कदम उठाया।
देशभर में चल रहे लॉकडाउन की वजह से तमाम फिल्मों और टीवी सीरियल्स की शूटिंग बंद है, जिस वजह से सबके सामने आर्थिक संकट आ गया है।  जो बड़े कलाकार हैं तो उन्हें तो कई दिक्कत नहीं है, लेकिन छोटे कलाकारों के लिए ये लॉकडाउन का दौर बहुत मुश्किल है। 



टीवी एक्टर मनमीत ग्रेवाल


टीवी की मशहूर एक्टर निया शर्मा ने भी उनकी खुदुकुशी पर शोक जताते हुए एक इमोशनल मैसेज लिखा है, "मैं उन्हें जानती नहीं थी, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण उनकी खुदकुशी की खबर दुखद है।  हालांकि इससे प्रवासी मजदूर भी घिरे हुए हैं, जिनके बारे में हम रोजाना न्यूज में देखते हैं।  लेकिन क्या वह सिर्फ अकेले थे जो इस सिचुएशन से गुजर रहे थे? हर व्यक्ति आर्थिक तंगी से गुजर रहा है।  मैं अपने ऐसे बहुत से  दोस्तों को जानती हूं जिन्हें पिछले 1 साल या इससे अधिक वक्त से पेमेंट नहीं मिली है, सैलरी नहीं मिली है। "


मनमीत ग्रेवाल एक स्ट्रगलिंग एक्टर थे और टीवी शोज में छोटे-मोटे रोल कर अपना चला रहे थे, लेकिन लॉकडाउन ने सबकुछ खत्म कर दिया।  शूटिंग बंद हुई तो पैसे की तंगी बढ़ गई, जिस वजह से उन्होंने अपने घर में ही फांसी लगाकर जान दे दी।  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मनमीत पहले से ही आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे और जब हालात और बिगड़े तो वो खुद को संभाल नहीं सके और अपनी जान दे दी। 


वैसे टीवी इंडस्ट्री के कई कलाकार आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं।  सुप्रिया बनर्जी नाम की एक टीवी एक्ट्रेस ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर कहा है- "कोरोना के काल में हमें इतनी दिक्कत है कि लग रहा है कि हम कुछ कर ना लें, एक साल पहले एक सीरियल में काम किया था जिसके लिए जो चेक मिला वो बाउंस हो गया, सरकार से मैं अपील कर रही हूं कि प्लीज हमारी सुनी जाए।"


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक