टेलीविज़न के दर्शक बढ़े, पर विज्ञापनों में जबरदस्त कमी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण  लागू लॉकडाउन के कारण हाल के दौर में देश में टीवी की व्युअरशिप बहुत तेज़ी से बढ़ी है, लेकिन अगर विज्ञापनों की  बात करें तो इस मोर्चे पर मीडिया इंडस्ट्री को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार संकट के इस दौर में तमाम ब्रैंड्स ने जहां अपने नए विज्ञापनों को रोक दिया है, वहीं टेलिविजन पर विज्ञापन खर्च को भी कम कर दिया है। इससे मीडिया इंडस्ट्री में भी घबराहट फैलती जा रही है। 



हालांकि कोविड-19 के दौरान टीवी का कुल उपभोग बढ़ा है और यह सभी रिकॉर्ड्स को तोड़ रहा है। कोविड-19 से पहले की तुलना करें तो उसके मुकाबले 15वें हफ्ते में इसमें 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इंडस्ट्री से जुड़े दिग्गजों ने आने वाले हफ्तों में टीवी की व्युअरशिप बढ़ने की उम्मीद जताई है, लेकिन इसे मिलने वाले विज्ञापनों में कमी रहने की संभावना है।


‘बार्क नील्सन’ की हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना महामारी के कारण टेलीविज़न को मिलने वाले विज्ञापनों में भी काफी कमी आई है। टीवी पर विज्ञापन में यह कमी विभिन्न जॉनर में आई है, लेकिन चार हफ्तों (12वें से 15वें हफ्ते के बीच) में जनरल एंटरटेनमेंट चैनल्स, मूवीज और किड्स कैटेगरी में विज्ञापन खर्च में सबसे ज्यादा कमी देखने को मिली है। चार हफ्तों के भीतर जनरल एंटरटेनमेंट चैनल्स  पर ‘फ्री कॉमर्शियल टाइम’ में करीब 40 प्रतिशत की कमी आई है। 


इसी तरह मूवी जॉनर की बात करें तो इस अवधि में इसमें 41 प्रतिशत की कमी आई है। 15 हफ्ते में इस जॉनर में फ्री कॉमर्शियल टाइम 42 लाख सेकेंड्स रह गया है, जबकि 12वें हफ्ते में यह 72 लाख सेकेंड्स था। इन चार हफ्तों में म्यूजिक जॉनर में फ्री कॉमर्शियल टाइम में 56 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। वहीं, किड्स जॉनर में इन चार हफ्तों में 38 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है और 12वें हफ्ते में फ्री कॉमर्शियल टाइम जहां 908 लाख सेकेंड्स था, वह 15वें हफ्ते में घटकर छह लाख सेकेंड्स रह गया है। 


न्यूज जॉनर में फ्री कॉमर्शियल टाइम में कम गिरावट दर्ज की गई है। इस अवधि के दौरान इस कैटेगरी में 16 प्रतिशत की गिरावट हुई है। 15वें हफ्ते में इस जॉनर में फ्री कॉमर्शियल टाइम 86 लाख सेकेंड्स रहा, जो चार हफ्ते पहले 102 लाख सेकेंड्स था। 


 


 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक