सिने कामगारों की मदद के लिए नेटफ्लिक्स ने दिए ₹ 7.5 करोड़

मुंबई। ऑनलाइन स्ट्रीमिंग कंपनी नेटफ्लिक्स ने सिने कामगारों की मदद के लिए प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया  के राहत कोष में ₹ 7.5 करोड़ की सहायता देने का एलान किया है। प्रोड्यूसर्स गिल्ड ने पिछले महीने भारतीय क्रिएटिव कम्युनिटी में रोजाना काम करके खाने वाले हजारों कर्मचारियों को एमरजेंसी शॉर्ट टर्म राहत प्रदान करने के लिए इस कोष की स्थापना की है। यह फंड कोरोना वायरस महामारी के कारण देश में फिल्म, टीवी और वेब प्रोडक्शंस के बंद होने से सीधे तौर पर प्रभावित हुए कर्मचारियों की मदद करेगा।



नेटफ्लिक्स के प्रवक्ता ने एक बयान जारी करके कहा है कि उन्हें प्रोड्यूसर्स गिल्ड के साथ मिलकर मदद करने पर गर्व महसूस हो रहा है कि वे इस लॉकडाउन के कारण बुरी तरह प्रभावित हुए इलेक्ट्रिशियन्स से कारपेंटर्स, हेयर एवं मेकअप आर्टिस्ट से लेकर स्पॉट बॉयस जैसे कर्मचारियों की सहायता कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि नेटफ्लिक्स की सफलता में भारत के क्रू मेंबर्स का बड़ा योगदान रहा है इसलिए अब हमारी कंपनी इस अभूतपूर्व संकट की घड़ी में अपनी तरफ से इन क्रू मेंबर्स की सहायता करने का अपना फर्ज निभा रही है।


प्रोड्यूसर्स गिल्ड के अध्यक्ष सिद्धार्थ रॉय कपूर ने कहा कि इस कोष के लिए नेटफ्लिक्स का योगदान बहुत मूल्यवान है। इसके अलावा हम इस कोष में मदद करने वाले फिल्म उद्योग से जुड़े सभी लोगों का धन्यवाद करते हैं। हमारे लिए जरूरतमंदों की मदद करने के लिए नेटफ्लिक्स का ये उदार कदम काफी महत्वपूर्ण है।


इसके अतिरिक्त नेटफ्लिक्स ने भारत में क्रू एंड कास्ट से निचले स्तर के सभी कर्मचारियों को 4 हफ़्तों का  वेतन देने की प्रतिबद्धता जताई है जिन कर्मचारियों को कोरोना वायरस महामारी के चलते मजबूरन सस्पेंड कर दिया गया था।


वहीं पिछले महीने नेटफ्लिक्स ने विश्व भर के क्रियेटिव कम्युनिटी की मदद करने के लिए 10 करोड़ अमेरिकी डॉलर देने की घोषणा की थी। हालांकि इसमें से ज्यादातर राशि पूरे विश्व के नेटफ्लिक्स प्रोडक्शन के सबसे अधिक प्रभावित हुए कर्मचारियों की मदद करने के लिए है। वहीं इस राशि में से 1.5 करोड़ अमेरिकी डॉलर थर्ड पार्टी और उन देशों के बेकार बैठे हुए क्रू एंड कास्ट मेंबरों की सहायता करने के लिए उपयोग किये जाएंगे जहां नेटफ्लिक्स का बड़ा प्रोडक्शन बेस है। प्रोड्यूसर्स गिल्ड को मदद स्वरूप दिये गये 7.5 करोड़  रुपये भी इसी 1.5 करोड़ डॉलर राशि का हिस्सा है।


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप