रिपीट टेलीकास्ट से चैनलों की चांदी, निर्माता और कलाकार खाली हाथ

जयपुर। कोरोना वायरस के कारण ज्यादातर टेलीविज़न चैनलों पर इन दिनों कई धारावाहिक रिपीट टेलीकास्ट में दिखाए जा रहे हैं। रिपीट टेलीकास्ट के बावजूद बहुत सारे दर्शक इन्हे पसंद कर रहे हैं, लेकिन ख़ास बात यह है कि टेलीविज़न चैनल किसी भी रिपीट शो  के निर्माता या उससे जुड़े कलाकारों को कुछ भी भुगतान नहीं कर रहे हैं। 



लॉकडाउन के बाद हर व्यक्ति और संस्था किसी न किसी रूप में नुकसान का सामना कर रहे हैं। लेकिन चैनलों की तो इस वक्त दिवाली चल रही है। रिपीट टेलिकास्ट के चलते किसी भी शो के निर्माता और अभिनेताओं को देना कुछ नहीं है, विज्ञापन से पैसा बोनस के रूप में आ ही रहा है।कोरोना वायरस का ये दौर टीवी चैनलों को छोड़कर सबके लिए काल बना हुआ है। 


यहाँ तक कि दूरदर्शन पर दिखाए जा रहे धारावाहिक 'रामायण' के लिए भी दूरदर्शन इसके निर्माताओं को कुछ राशि नहीं दे रहा है।  हालांकि यहाँ मामला थोड़ा अलग है, क्योंकि धारावाहिक 'रामायण' के निर्माता यानी रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने यह सीरियल दूरदर्शन को निशुल्क उपलब्ध कराया है। लेकिन बाकी ज्यादातर धारावाहिकों को  निजी चैनल बिलकुल निशुल्क दिखा रहे हैं। 


लॉकडाउन के समय में घर बैठे लोगों को टीवी देखकर तो यही लग रहा होगा कि शो के कलाकार और इसके निर्माता इस वक्त खूब पैसे कमा रहे होंगे। लेकिन आपको बता दें कि दोबारा से शुरू हुए शो जैसे; रामायण, महाभारत, शक्तिमान, खिचड़ी, साथ निभाना साथिया, दिया और बाती हम आदि के निर्माताओं और कलाकारों को खुशी के अलावा और कुछ नहीं मिल रहा है। ये सब अपनी खुशी से दर्शकों के मनोरंजन में अपना निस्वार्थ योगदान दे रहे हैं। टेलीविज़न धारावाहिकों से जुड़े एक निर्माता ने कहा कि जब भी चैनल कोई शो वापस लेकर आता है, तो वह हमसे नहीं पूछता। फिल्मों का काम अलग है लेकिन, टीवी इंडस्ट्री का काम ऐसे ही चलता है। हमारा काम सिर्फ इतना ही है कि हम चैनल को अपना शो बनाकर दे दें। बाद में चैनल उसका क्या करता है, इससे हमें कोई लेना देना नहीं रहता।  हमारा जो काम था, वो हमने कर दिया। अब चैनल किस शो को कितनी बार चलाता है या किसी और से चलवाता है, वो उसकी मर्जी है। हमें तो बस इस बात की खुशी है कि हमारा बनाया हुआ शो टीवी पर आया है। बाकी उसका फायदा तो सिर्फ चैनल को ही जाना है।


खिचड़ी और साराभाई वर्सेज साराभाई धारावाहिकों के निर्माता जेडी मजीठिया हाल ही में अपने शो के कलाकारों के साथ शो का ऑनलाइन प्रमोशन करते नजर आए। जेडी ने भी चैनल और निर्माता के बीच के रिश्ते को सिर्फ ताजा एपिसोड मिलने तक ही सीमित बताया। उन्होंने कहा, 'दूरदर्शन का मुझे पता नहीं लेकिन, सैटेलाइट चैनल पर चलने वाले सभी शो के सारे अधिकार चैनल के पास ही रहते हैं। वे उनका इस्तेमाल जैसे चाहे वैसे कर सकते हैं। हम तो बस स्वेच्छा से लोगों के मनोरंजन के लिए अपना योगदान दे रहे हैं।'


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप