मुल्क और इंसानियत पर रहम खाएं - राहत इंदौरी की अपील

नई दिल्ली।  तुमको समझ ना आया मगर साफ-साफ था/ जो कुछ किया है तुमने, तुम्हारे खिलाफ था ! यह लाइनें मशहूर शायर राहत इंदौरी ​ने  कही।  बुधवार को इंदौर के टाटपट्टी बाखल में स्वास्थ्य विभाग की टीम कोरोना संक्रमितों की जांच के लिए पहुंची थी।  यहां भीड़ ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को घेरा और पत्थर भी बरसाए, इससे आहत राहत इंदौरी ने कहा कि इस घटना ने उन्हें ‘शर्मसार’ कर दिया है। 



पोर्टल द प्रिंट के साथ बातचीत में उन्होंने कहा, ‘कल रात 12 बजे तक मैं दोस्तों से फोन पर पूछता रहा कि वह घर किसका है, जहां डॉक्टरों पर थूका गया है, ताकि मैं उनके पैर पकड़कर माथा रगड़कर उनसे कहूं कि खुद पर, अपनी बिरादरी, अपने मुल्क व इंसानियत पर रहम खाएं। ’ कल इंदौर में घटी घटना से आहत इंदौरी बार-बार कहते रहे, ‘यह सियासी झगड़ा नहीं, बल्कि आसमानी कहर है, जिसका मुकाबला हम मिलकर नहीं करेंगे तो हार जाएंगे। ’


वह आगे कहते हैं, ‘ज्यादा अफसोस मुझे इसलिए हो रहा है कि रानीपुरा मेरा अजीज मोहल्ला है, ’अलिफ-बे’ मैंने वहीं सीखा है।  उस्ताद के साथ मेरी बैठकें वहीं हुईं] मैं बुजुर्गों ही नहीं, बच्चों के आगे भी दामन फैलाकर भीख मांग रहा हूं कि दुनिया पर रहम करें।  डॉक्टरों का सहयोग करें, इस आसमानी बला को फसाद का नाम न दें।  इंसानी बिरादरी खत्म हो जाएगी, जिंदगी अल्लाह की दी हुई सबसे कीमती नेमत है।  इस तरह कुल्लियों में, गालियों में, मवालियों की तरह इसे गुजारेंगे तो तारीख और खासकर इंदौर की तारीख जहां सिर्फ मोहब्बतों की फसलें उपजी हैं, वह तुम्हें कभी माफ नहीं करेगी।’


इस बीच मध्यप्रदेश के इंदौर में स्वास्थ्य विभाग की टीम पर हमला करने वाले लोगों पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।  वहीं जो अन्य लोग इस घटना में शामिल थे उनकी वीडियो फुटेज के माध्यम से जांच की जा रही है, जल्द ही इन पर कार्रवाई की जाएगी। इस घटना के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा,’ इंदौर में हुई घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।  इस घटना में शामिल लोगों को नहीं छोड़ा जाएगा।  पीड़ित मानवता को बचाने के कार्य में कोई भी बाधा डालेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। ’


बुधवार को शहर के टाटपट्टी बाखल में कोरोना संक्रमितों की जांच करने स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची थी।  ऐसे में लोगों ने टीम पर पथराव कर दिया था।  इसमें स्वास्थ्यकर्मी जान बचाकर भागे थे, वहीं उपद्रवियों ने बैरिकेड्स भी तोड़ दिए थे।  इंदौर पुलिस ने इन सभी के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा का केस दर्ज किया है। 


 


 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप