कवि -गीतकार प्रसून जोशी ने मोदी के वीडियो सन्देश को समर्पित की अपनी कविता

मुंबई।  कवि -गीतकार प्रसून जोशी ने अपनी कविता 'दीपक हूं मैं लालायित हूं' को प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी के आज के वीडियो सन्देश को समर्पित कर दिया है।  प्रसून ने कहा, 'मैं अपनी इस कविता के भाव को अंधेरे से लड़ने के लिए समर्पित करता हूं। '



उन्होंने कहा कि इस कविता के जरिये उन्होंने पीएम मोदी का समर्थन किया है। प्रसून ने कहा, 'हमारे प्रधानमंत्री जी ने कोरोना के अंधेरे से लड़ने के लिए हमसे पांच अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए साथ आने का आग्रह किया है।  अत: हमें उनके बताए रास्ते पर चलना है और एक साथ जुड़ कर प्रकाश बनना है। '
पेशे से हिन्दी कवि, लेखक, पटकथा लेखक प्रसून जोशी को  फ़िल्म ‘तारे ज़मीन पर’ के गाने ‘मां...’ के लिए  'राष्ट्रीय पुरस्कार' भी मिल चुका है।  वे सेंसर बोर्ड के चेयरमैन भी रह चुके हैं। आपको ज्ञात होगा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 17 अप्रैल 2017 को लंदन में 'भारत की बात सबके साथ' कार्यक्रम के जरिए दुनिया को संबोधित किया था।  उस दौरान प्रसून जोशी ने ही उनका दो घंटे 20 मिनट का इंटरव्यू लिया था।  यह सबसे लंबा इंटरव्यू था।                 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित प्रसून जोशी की कविता इस प्रकार है -


दीपक हूं मैं लालायित हूं


एक और दीप जलेगा मुझसे


यह आशा लेकर जीवित हूं


ज्योति रीति है मुझे निभानी


यह तम रेखा मुझे मिटानी


मुझे ध्वंस का अंश मिटाना


मुझे किरण पथ पर है जाना


मैं आशा लेकर जीवित हूं


दीपक हूं मैं लालायित हूं


सूर्य पुत्र हूं मैं उजाल हूं


मैं उन्न अंगार भाल हूं


बिंदु बिंदु झरते जाना है


मुझे तिमिर पीते जाना है


बस यही लक्ष्य लिए अर्पित हूं


दीपक हूं मैं लालायित हूं


आलोकित करना है पथ को


मुझे निभाना अग्नि शपथ को


मुझे दीप कर्तव्य निभाना


मुझे भोरे तक जलते जाना


इसी बोध से मैं कृत कृत हूं


दीपक हूं मैं लालायित हूं


एक और दीप जलेगा मुझसे


यह आशा लेकर जीवित हूं


- प्रसून जोशी


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप