कला और संस्कृति उद्योग के लिए भी राहत पैकेज की अपील

 


जयपुर।  संस्कृति संरक्षक और भारतीय समाज कल्याण कार्यकर्ता संदीप भूतोडिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देश के कलाकारों, शिल्पकारों और सांस्कृतिक  कर्मियों के लिए ‘राहत पैकेज' देने का आग्रह किया है। प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में, भूतोडिया ने अपील की है कि इस तरह का पैकेज उनकी आजीविका बनाए रखने और पारंपरिक शिल्प एवं कौशल को जीवित रखने में महत्वपूर्ण कदम सहायक होगा। सामान्य दौर में भी, भारत की समृद्ध संस्कृति विरासत के ये पथ-प्रदर्शक मुश्किल अपनी जरूरतें  पूरी कर पाते हैं। महामारी के इस दौर में, हजारों ऐसे कलाकार हैं, जो सरकार की थोड़ी सी मदद से अपना घर चला पाने में सक्षम हो पाएंगे। भूतोडिया ने कहा, "थोड़ी सी मदद, इन गुमनाम नायकों के अंदर भारत की कलात्मक और सांस्कृतिक विरासत का झंडा बुलंद करने की नई उम्मीद जगाए रख सकती है।" 



कैप्शन - आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा के साथ संदीप भूतोडिया


उन्होंने आगे कहा कि गरीब कारीगरों, लोक कलाकारों और अन्य लोगों को अपनी शिकायत रखने के लिए एक उचित मंच की आवश्यकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए सरकारी पहल की तत्काल आवश्यकता है कि कोरोनावायरस संकट गत हजारों वर्षों में निर्मित भारत की सांस्कृतिक विरासत और इसके विशाल स्वरूप को ना मिटा दें। भूतोडिया ने कोरोनावायरस महामारी से लड़ने के लिए अब तक की गई त्वरित कार्रवाई के लिए पीएम का आभार जताया। उल्लेखनीय है कि संदीप भूतोडिया अपने एनजीओ के माध्यम से द राइट सर्कल, कलम, लफ्ज, एक मुलाकात, जैसे कार्यक्रम आयोजित करते रहते हैं। गौरतलब है कि देश के कई वरिष्ठ कलाकारों ने पीएम को भेजे गए इस पत्र का समर्थन किया है। 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप