चकाचौंध भरी फ़िल्मी दुनिया के कामगारों की ज़िन्दगी अँधेरे में डूबी

मुंबई। देशभर में चल रहे लॉकडाउन के कारण फिल्म उद्योग के सैकड़ों कामगारों के सामने रोजी-रोटी का संकट और गहरा हो गया है।  ऐसे हजारों स्पॉट बॉय, मेकअप आर्टिस्ट, कैमरापर्सन हैं, जिनकी आमदनी बंद है और अब उनके सामने घर चलाने  का संकट आन खड़ा हुआ है। ऐसे लोगों को रोजाना के हिसाब से पैसे मिलते हैं। हालांकि बड़े फिल्मी सितारे ऐसे लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं, पर कामगारों की ज़िन्दगी में छाया अँधेरा फिलहाल दूर होता नज़र नहीं आ रहा है। 



 


मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि सिने उद्योग के कामगार रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। कोरोना वायरस के मद्देनजर देश में बंद की वजह से बॉलीवुड में रोजाना की कमाई करने वाले लोगों पर असर पड़ा है और वह मायूसी की हालत में पहुंच चुके हैं।


पांच लाख सदस्यों की एक शीर्ष इकाई फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इम्प्लॉयज ऐसे कर्मियों के मदद के लिए आगे आई है। वहीं कुछ प्रोड्यूसर और कलाकार भी मदद दे रहे हैं। बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान ऐसे 25,000 लोगों को आर्थिक सहायता देने के लिए आगे आए हैं। रोहित शेट्टी ने फेडरेशन को 52 लाख रुपये की सहायता दी है लेकिन अब भी इस तबके के पास मदद नहीं पहुंचा है। 26 वर्षीय स्पॉट बॉय कोशल शर्मा का कहना है कि उनकी जेब में बचे आखिरी 100 रुपये भी खर्च हो गए हैं। वह ऐसी स्थिति में न तो बाहर जा सकते हैं और न कुछ कर सकते हैं। वह अपने घर जम्मू-कश्मीर लौटना चाहते हैं लेकिन उन्हें नहीं पता कि वह कैसे जाएंगे।


कुछ कामगार ऐसे हैं जो अपने पड़ोसियों के सहारे अपना जीवन चला रहे हैं। पड़ोसी उन्हें खाने-पीने की चीजों में मदद कर रहे हैं।इस तरह के लोग बॉलीवुड की रीढ़ माने जाते हैं लेकिन अभी वह तीन सप्ताह के बंद की वजह से रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।


 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक