सिने उद्योग के कामगारों के लिए राहत का कोई इंतज़ाम नहीं

मुंबई। देश के फिल्म उद्योग की धड़कन समझी जाने वाली मायानगरी मुंबई से जुड़े अनेक कामगारों के सामने गहरा संकट खड़ा हो गया है। मुंबई और इसके उपनगरों में फ़िल्मों  और टी वी धारावाहिकों की लगातार शूटिंग चलती रही है, लेकिन कोविड - 19 के प्रकोप के कारण पिछले दस दिनों से शूटिंग का काम बंद पड़ा है और कामगार ठाले  बैठे हैं। और उनकी सहायता के लिए अभी तक कोई सामने नहीं आया है। 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कभी दिल्ली तो कभी मुंबई में सेल्फी खिंचाने वाले तमाम निर्माताओं ने फिल्म प्रोड्यूसर्स गिल्ड के बनाए उस राहत कोष में अभी तक एक भी पैसा नहीं डाला है, जिसके जरिए फिल्म उद्योग ठप होने से प्रभावित दैनिक वेतनभोगियों की मदद होनी है। फिल्म मजदूरों के अपने संगठन ने इन दैनिक वेतनभोगियों के लिए फिल्मिस्तान स्टूडियो पर राशन बांटने की व्यवस्था की थी लेकिन लॉकडाउन के चलते अब लोग यहां मदद लेने नहीं पहुंच पा रहे हैं।



सरकार को जब भी अपनी कोई बात जनता तक पहुंचानी होती है तो वह कई बार फिल्मी सितारों की मदद लेती हैं। उनके ट्वीट रीट्वीट करती हैं। अकेली हिंदी फिल्म इंडस्ट्री से मुंबई और आसपास के इलाकों में 45 लाख लोग सीधे जुड़े हुए हैं। फिल्मों और टीवी धारावाहिकों की शूटिंग बंद है। ऐसे में कोरोना महामारी के चलते सिने मजदूरों के संगठन फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एंप्लाइज (एफडब्ल्यूआईसीई) ने दैनिक वेतनभोगियों की मदद शुरू की है। संगठन की तरफ से पिछले रविवार से ही राशन बांटा जा रहा है।फिल्म निर्माताओं के सबसे अमीर संगठन द फिल्म एंड टेलीविजन प्रोड्यूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने अभी तक कोई भी राहत मजदूरों तक नहीं पहुंचाई है। कहा जा रहा है कि राज्य में धारा 144 लागू हो जाने की वजह से पैसे के लेन देन में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है जबकि हकीकत यह है कि बैंक की सुविधा और पैसे का लेन देन राज्य में सुचारू रूप से जारी है।फिल्म प्रोड्यूसर्स गिल्ड के अध्यक्ष हैं रॉय कपूर फिल्म्स प्रोडक्शन हाउस के मालिक सिद्धार्थ रॉय कपूर।


गिल्ड के सदस्यों में करण जौहर, भूषण कुमार, बोनी कपूर, एकता कपूर, आमिर खान, आदित्य चोपड़ा, महेश भट्ट, दिनेश विजन, सलमान खान और राजन शाही जैसे भारी भरकम नाम शामिल हैं। लेकिन गिल्ड उप महासचिव मनीष गोस्वामी की मानें तो संगठन के बनाए राहत कोष में निर्माताओं की तरफ से अब तक एक भी पैसा नहीं पहुंचा है। मनीष गोस्वामी कहते हैं, 'इंडस्ट्री से कई लोगों के बयान तो आए हैं, लेकिन अभी किसी ने कोई पैसा नहीं दिया है। कोरोना की वजह से सभी प्रोडक्शन हाउस बंद हैं। इसीलिए सभी निर्माताओं का कहना है कि वे पैसा ट्रांसफर करने में असमर्थ हैं।'  


Popular posts from this blog

‘कम्युनिकेशन टुडे’ की स्वर्ण जयंती वेबिनार में इस बार ‘खबर लहरिया’ पर चर्चा

ऑडियो-वीडियो लेखन पर हिंदी का पहला निशुल्क पाठ्यक्रम 28 जनवरी से होगा शुरू

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिये मनोरंजन उद्योग में आए बदलावों पर चर्चा के लिए वेबिनार 19 को