पाकिस्तानी सिनेमा को पुनर्जीवित करने की कोशिश, मिलेगा उद्योग का दर्जा

इस्लामाबाद। पकिस्तान की इमरान खान सरकार ने घोषणा की है कि पाकिस्तानी सिनेमा को पूर्ण उद्योग का दर्जा दिया जाएगा। न्यूज इंटरनेशनल ने प्रधानमंत्री की सूचना एवं प्रसारण मामलों की सलाहकार फिरदौस आशिक अवान का हवाला देते हुए लिखा कि अंतरराष्ट्रीय  क्षेत्र में पाकिस्तान की छवि को सकारात्मक रूप से दर्शाने के लिए, यह बहुत जरूरी है कि इसके सिनेमा को पुनर्जीवित किया जाए।



अवान ने कहा कि यह निर्णय इसलिए लिया गया है, क्योंकि फिल्म उद्योग की सहायता से पाकिस्तान की संस्कृति, मूल्यों और परंपराओं को बढ़ावा मिल सके। उन्होने मीडिया को आश्वासन देते हुए कहा कि सभी हितधारकों की सलाह के बिना कोई नीति नहीं बनाई जाएगी।


अवान ने फिल्म निर्माताओं को देश की आर्थिक प्रगति में अपना अहम योगदान देने को कहा और पाकिस्तानी सिनेमा को फिर से उसके पैर पर खड़ा करने में सरकार द्वारा हर संभव प्रयास करने का वादा किया। पाकिस्तान में कई फिल्म स्टूडियो हैं, जो मुख्य रूप से कराची और लाहौर में स्थित हैं।


 


Popular posts from this blog

‘कम्युनिकेशन टुडे’ की स्वर्ण जयंती वेबिनार में इस बार ‘खबर लहरिया’ पर चर्चा

ऑडियो-वीडियो लेखन पर हिंदी का पहला निशुल्क पाठ्यक्रम 28 जनवरी से होगा शुरू

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिये मनोरंजन उद्योग में आए बदलावों पर चर्चा के लिए वेबिनार 19 को