कोरोनावायरस के कारण हॉलीवुड को 2 बिलियन डॉलर के नुकसान की आंशका

मुंबई। कोरोनावायरस के कारण चीन में पिछले अनेक हफ़्तों से सिनेमाघर बंद पड़े हैं और इससे चीन के घरेलू फिल्म उद्योग को जबरदस्त नुकसान हुआ है।  साथ ही हॉलीवुड फिल्म उद्योग को भी 2 बिलियन डॉलर के नुकसान  की आंशका व्यक्त की गई है। हॉलीवुड फिल्म उद्योग को चीन का बड़ा सहारा मिलता है, लेकिन फिलहाल चीन में हॉलीवुड की फ़िल्में रिलीज़ नहीं हो रही हैं, क्योंकि  चीन में 70 हजार से ज्यादा थियेटर्स पर ताले लग गए हैं। 



जेम्स बॉन्ड सीरीज की 25वीं फिल्म ‘नो टाइम टू डाई’ का अप्रैल प्रीमियर औऱ टूर कैंसिल हो गया है। 


फरवरी 2019 में चीन ने एक महीने में सबसे ज्यादा बॉक्स ऑफिस रेवेन्यू कलेक्ट करने का रिकॉर्ड बनाया था। चाइना डेली के अनुसार फरवरी में बॉक्स ऑफिस पर कुल 1.64 बिलियन डॉलर का कलेक्शन हुआ था। हॉलीवुड रिपोर्टर के मुताबिक 2019 में चाइनीज न्यू ईयर के दौरान टिकट रेवेन्यू 1.52 बिलियन डॉलर था। लेकिन 2020 में (24 जनवरी-12 फरवरी) तक यह आंकड़ा महज 3.9 मिलियन डॉलर पर आ गया। जेम्स बॉन्ड सीरीज की 25वीं फिल्म ‘नो टाइम टू डाई’ का अप्रैल प्रीमियर औऱ टूर कैंसिल हो गया है। वहीं, ‘मुलान’ का चीन में रिलीज होना भी अभी तय नहीं है। इन दोनों फिल्मों के लिए चीन में रिलीज होना बेहद फायदेमंद माना जाता है। साल 2015 में ‘स्पेक्टर’ ने चीन मे ग्रॉस 83.5 मिलियन डॉलर का कारोबार किया था, जबकि ग्लोबली यह आंकड़ा 800 मिलियन डॉलर था। इसके अलावा ‘मिशन इंपॉसिबल’ सीरीज की सातवीं मूवी का प्रोडक्शन भी इस वायरस के चलते रोक दिया गया है।


इसके अलावा ‘डू लिटिल’,‘सॉनिक द हेजहॉग’ और ऑस्कर नॉमिनेटेड फिल्म्स ‘जोजो रैबिट’, ‘मैरिज स्टोरी’ और ‘लिटिल वुमन’ की चाइना रिलीज फिलहाल के लिए रोक दी गई हैं। चीन भारतीय फिल्मों का बड़ा मार्केट रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कोरोनावायरस के चलते करीब पांच फिल्मों की शूट लोकेशन बदली गई है। इनमें से तीन बॉलीवुड, एक तमिल और एक तेलुगु फिल्म है। ‘अंधाधुंध’, ‘मॉम’, ‘हिचकी’ जैसी फिल्मों ने चीनी बॉक्स ऑफिस पर 100 करोड़ रुपए से ज्यादा का कारोबार कर चुकी हैं। वहीं, आमिर खान की फिल्म ‘दंगल’ ने चीनी बाजार में एक हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का बिजनेस किया था।


 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!