भजन, भंगड़ा और हरियाणवी गीतों के ज़रिये कोरोना की चर्चा

जयपुर।  सबसे गंभीर स्थितियों में भी कॉमिक राहत की थोड़ी तलाश करना एक सहज इंसानी  स्वभाव है, और कोरोनावायरस महामारी का यह दौर भी इससे अलग नहीं है। एक तरफ पूरी दुनिया कोरोना वायरस से मुकाबला करने के प्रयास कर रही है, वहीँ दूसरी तरफ़ कुछ लोग सोशल मीडिया पर गीतों के जरिये लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय बताते नजर आ रहे हैं। इसी तरह कुछ गायकों ने कोविड - 19  के गीतों के साथ कुछ ख़ुशी फैलाने की कोशिश की है। इनमें अली जफर, नरेंद्र चंचल और जैम लीवर जैसे लोकप्रिय नाम शामिल हैं।



 गीत-संगीत के माध्यम से कोरोना के बचाव सोशल मीडिया इस कदर छाए हुए हैं कि ये खूब वायरल हो रहे हैं। इनमें भजन, भंगड़ा, हरियाणवी व भोजपुरी गीत और पॉप सांग काफी लोकप्रिय हो रहे हैं। इनके अलावा सोशल मीडिया पर अनेक ऐसे संदेश भी चल रहे हैं जो दूसरे देशों में फंसे लोगों के हैं। इनमें वे वहां के हालात बताते हुए अपने देश भारत के लोगों को इस महामारी के भयंकर रूप का विवरण देते हुए इससे बचने के लिए भारत सरकार के निर्देशों का हर हाल में पालन करने को कहते दिखाई देते हैं। हालांकि कुछ लोग कोरोना को लेकर चुटकुले भी सोशल मीडिया पर प्रेषित कर रहे हैं।
विभिन्न गीतों के ये हैं बोल --
- कुछ पुलिस वाले भंगड़ा के जरिये इस तरह जागरूक कर रहे हैं - बारी-बारी बरसी खटण गया सी खटके लांदा सोना- बांह विच खंग सोणिया ऐवें ही करना नहीं कोरोना, बारी-बारी बरसी खटण गया सी खटके लांदा डोह, ओ मुंह नू ढको सोणियो इस गल नू ना हलकी लो...।
- कुछ महिलाएं हरियाणवी गीत भजन की तर्ज पर गा रही हैं - हे करोना तू चाल्या जा बदमाश, तेरा रे भारत म्है के काम। तू कित तै आया करोना रे, तन्नै दुनिया सारी डराई रे, रे मर गे लोग-लुगाई, रे तू चाल्या जाइए कसाई रे, तू चाल्या जा बदमाश, तेरा रे भारत म्है के काम...।
- भजन सम्राट नरेंद्र चंचल द्वारा जागरण में भजन गाया गया है, जिसके बोल हैं... डेंगू भी आया-स्वाइन फ्लू भी आया, चिकनगुनिया ने शोर मचाया, खबरें कि कि होना- हो किथों आया कोरोना...मैया जी किथों आया कोरोना... 
- एक भोजपुरी गीत - कोरोना वायरस देश-विदेश में मचा दिया है हा-हा कार, तब से खतरा-बढ़ा है लफड़ा, जनता जाग हो सावधान, सुनो री जनता सुनो जवान....
- पॉप सांग - एक युवती पॉप गीत कुछ इस तरह गा रही है... कोरोना.. हो.. ना ना, ऑल ऑफ माई माइंड इज इन कोरोना.. हो.. ना ना, इट केम ऑल द वे फ्रॉम चाइना.. ना ना ना, एवरीवन्स फ्रेकिंग आउट कोरोना, देयरज समथिंग अबाउट दिस वायरस कोरोना.. हो.. ना ना!


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप