कॉन फिल्म मार्केट 2020 में भारत की भागीदारी पर विचार - विमर्श

नई दिल्ली।  बर्लिन अंतरराष्ट्रीय  फिल्म समारोह में भारतीय शिष्टमंडल ने कॉन फिल्म समारोह के मार्च डू फिल्म की प्रमुख सुश्री मउद एम्सन और  कॉन फिल्म समारोह के मार्च डू फिल्म विक्रय एवं प्रचालन-विज्ञापन के अर्नोद मेनिनडेस के साथ मुलाकात की और कॉन फिल्म मार्केट 2020 में भारत सरकार की भागीदारी के संबंध में चर्चा की। इस चर्चा में कॉन में भारत की और अधिक कार्यनीतिक रूप से भागीदारी के बारे में भी बातचीत की गई।  कॉन ने आईएफएफआई के 51 वें संस्करण के लिए अपना सहयोग और भागीदारी जताई।



शिष्टमंडल में विख्यात फिल्म समारोह, फिल्म आयोग, टेलिफिल्म कनाडा की विशेषज्ञ इंटरनेशनल बिजनेस डेवलेपमेंट की सुश्री मेरिल पॉपलिन; यूरीमेजेज के उप कार्यकारी निदेशक इनरिको वानुसी; मेकिंग मूवीज ओवाई के कइनोडबर्ग; सिनेमा डू ब्रासिल की कार्यकारी प्रबंधक सुश्री एडरिन फ्रेटेग; इनवेस्ट साइप्रस की फिल्म यूनिट के प्रमुख वरिष्ट अधिकारी लेफ्टेरिस एस एलेफथेरोइ, हंगरी के राष्ट्रीय फिल्म संस्थान की समारोह प्रबंधक सुश्री कोटालिंग वजदा, पुर्तगाल के  बोर्ड-आईसीए इन्सटीच्यूटो डो सिनेमा विडो ओडो विजुअल के अध्यक्ष लुईस चेबिवाज एवं इटली के निर्माता सरजियो एस्केप गिनी जैसे अन्तरराष्ट्रीय निर्माताओं से भी मुलाकात की। एस्केप गिनी ने बताया कि इटली आईआईएफएफआई के 51 वें समारोह के लिए भारत के साथ भागीदारी करने एवं सहयोग करने पर सक्रियतापूर्वक विचार कर रहा है। उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि यह भागीदारी दोनों देशों के बीच और अधिक सक्रिय  संबंधों का रास्ता प्रशस्त करेगी।


भारतीय शिष्टमंडल ने इन परस्पर संपर्कों के जरिए आईएफएफआई के 51 वें संस्करण को तथा फिल्म सुगमीकरण कार्यालय, जो फिल्म निर्मातों के लिए एकल विंडो मंजूरी को सरल बनाता है तथा वेबसाइट  www.ffo.gov.in., के माध्यम से ‘फिल्म पर्यटन’ के लिए एक मंच उपलब्ध कराता है, के जरिए भारत में फिल्मों की शूटिंग को प्रोत्साहित दिया। इस शिष्टमंडल ने भारत के साथ सह-निर्माण तथा अंतर्राष्ट्रीय प्रोड्क्शन घरानों के साथ फिल्मों के लिए सहयोग के अवसरों की भी तलाश की।


भारतीय उद्योग परिसंघ के सहयोग से सूचना और प्रसारण मंत्रालय, जर्मनी में बर्लिन अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव, 2020 में भाग ले रहा है।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!