ब्रांड वैल्यू के आधार पर विराट कोहली से पीछे हैं अक्षय कुमार

मुंबई।  अपने क्लाइंट की वैल्यू को प्रोटेक्ट, रिस्टोर और मैक्सीमाइज करने वाली वैश्विक सलाहकार कंपनी डफ एंड फेल्प्स ने आज अपने सेलिब्रिटी ब्रांड वैल्यूएशन स्टडी ‘न्यू इज गोल्ड‘ के पांचवें संस्करण के प्रमुख निष्कर्षों को जारी किया। यह स्टूडियो एंडोर्समेंट कॉन्ट्रैक्ट्स से प्राप्त ब्रांड वैल्यू के आधार पर भारत के सबसे शक्तिशाली सेलेब्रिटी ब्रांडों की रैंकिंग को प्रदर्शित करती है। रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्षों में शामिल हैंः
- विराट कोहली ने लगातार तीसरे वर्ष के लिए शीर्ष स्थान बरकरार रखा है। 2019 में उनका ब्रांड मूल्य 39 फीसदी बढ़कर 237.5 मिलियन यूएस डाॅलर हो गया। 
- अक्षय कुमार ने दीपिका पादुकोण को पछाड़ कर 104.5 मिलियन यूएस डाॅलर के ब्रांड मूल्य के साथ दूसरा स्थान हासिल किया, 55.3 फीसदी की बढ़त।



 - डायनेमिक पॉवर कपल, रणवीर और दीपिका, 93.5 मिलियन यूएस डालर के साथ तीसरे स्थान का दावा करते हैं। दीपिका ने लगातार दूसरे साल अपनी सबसे मूल्यवान महिला सेलिब्रिटी का दर्जा बरकरार रखा, जबकि रणवीर एक स्थान पर आगे आ गए और अब दीपिका पादुकोण के साथ इसी स्थान पर कब्जा कर लिया।
- शीर्ष 20 सेलिब्रिटी ब्रांडों का कुल मूल्य 1.1 बिलियन यूएस डालर है, शीर्ष 10 कुल वैल्यू में 75 फीसदी का योगदान करते हैं।
डफ एंड फेल्प्स के मैनेजिंग डायरेक्टर अविरल जैन का कहना है, ‘‘इस वर्ष हमने अगली पीढ़ी की मशहूर हस्तियों को शीर्ष 20 में जगह बनाते हुए देखा है। पिछले साल की स्टडी में भी शामिल रही हस्तियों के अलावा इस बार नई जुड़ी हस्तियों में आयुष्मान खुराना (10), टाइगर श्रॉफ (17) और रोहित शर्मा (20) हैं, जिनकी कुल ब्रांड वैल्यू 87.5 अमेरिकी डाॅलर है। उद्योग ने न्यू मीडिया और ऑनस्क्रीन एक्सिलियन्स और जनरेशनल जेड को भुनाने के लिए डिजिटल माध्यमों के प्रभावी उपायों के इस्तेमाल के साथ नए चेहरे और अवधारणाओं की एक लहर देखी। भले ही ब्रांडों ने नए चेहरों में रैंप पर दिग्गज अभिनेताओं से चिपके रहने के अपने दृष्टिकोण को बदल दिया, लेकिन वे धारा के साथ बने रहने में कामयाब रहे। यह पारंपरिक और नए का सही मिश्रण बना रहा।‘‘


जैन ने कहा कि सितारों की नई वंशावली भी ‘स्टारवेस्टर्स’ (स्टार इन्वेस्टर्स) के रूप में उभर रही है, इस प्रकार इन ब्रांडों में पूंजी लगाई जाती है जो उनकी वैल्यू को बढ़ाते हैं।
भारत में एंडोर्समेंट मार्केट के बदलते स्वरूप पर टिप्पणी करते हुए, वरुण गुप्ता, मैनेजिंग डायरेक्टर और एशिया पैसिफिक लीडर फॉर वैल्यूएशन सर्विसेज, डफ एंड फेल्प्स ने कहा, ‘‘यह मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र के लिए एक नए युग की सुबह है। यह ब्रांडों में निवेश की दिशा में पारंपरिक मुख्यधारा के समर्थन से चलती हस्तियों, डिजिटल प्रारूप विज्ञापन अभियानों के उदय या आॅवर-द-टाॅप (ओटीटी) स्टार्स की शुरुआत है, जो एंडोर्समेंट मंे नए प्रतिमान कायम कर रहे हैं। ब्रांडों और मशहूर हस्तियों ने जागरूकता जगाने वाले अनेक विज्ञापन किए हैं, निर्देशक कंटेंट को किंग बना कर फिल्में बना रहे हैं, यह आज की जनरेशन जेड और वाई के लिए महत्तवपूर्ण है।‘‘
इसके अलावा, भारत के डिजिटल पीढ़ी के उन्नयन के बाद से ओटीटी के बढ़ते चलन पर स्टडी ने फोकस किया। ओटीटी के साथ राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर क्षेत्रीय उद्योगों ने साबित किया कि क्षेत्रीय सामग्री आज के उपभोक्ता के लिए एक शर्त है। इस अध्ययन में सेलिब्रिटी एंडोर्सर्स की नई जमात पर भी प्रकाश डाला जो डिजिटल स्टार बन गए हैं, वे सक्रिय रूप से सामाजिक कारणों में खुद को शामिल करते हैं और फिटनेस, स्वास्थ्य और कल्याण की ओर झुकाव वाले ब्रांडों को बढ़ावा देते हैं।


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप