शबद गायन, पंजाबी नृत्यों और सूफी गायन में साकार होगी पंजाबी संस्कृति

जयपुर। जयपुर के जवाहर कला केंद्र में गुरुनानक देव की 550वीं जयंती के उपलक्ष्य में  12 जनवरी  से दो दिवसीय "हर सिमरन" कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इसमें विभिन्न प्रस्तुतियों में पंजाबी संस्कृति साकार होगी। जेकेके महानिदेशक किरण सोनी गुप्ता ने बताया कि केंद्र के मध्यवर्ती में 12 जनवरी को शाम 6.30 बजे शबद गायन होगा। इसके बाद मनीष जोशी निर्देशित दास्तानगोई के रूप में नाटक  'सतनाम वाहे गुरु' की प्रस्तुति दी जाएगी।



कार्यक्रम के अंतर्गत 13 जनवरी को शाम 6.30 बजे पंजाबी लोक नृत्य होंगे। इसमें लोक कलाकार जिंदुआ और भांगड़ा की प्रस्तुति देंगे। इसके साथ ही माणिक अली पंजाबी सूफी गायन पेश करेंगे। इसके बाद पूरे हषोल्लास से 'लोहड़ी' का आयोजन होगा। उन्होंने बताया कि केंद्र की ओर से देश की गौरवशाली संस्कृति से सभी को अवगत कराने के उद्देश्य से ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहे हैं। इसी कड़ी में प्रदेश के नागरिक पंजाबी संस्कृति से रू-ब-रू होंगे।


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप