सरकार का पूरा काम झूठ पर चलता है.- अनुराग कश्यप

 


मुंबई। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों पर लगातार हमला करने वाले फिल्मकार अनुराग कश्यप ने कहा है कि सरकार लगातार झूठ बोल रही है और उसका सिर्फ एक ही मक़सद है - चुनाव जीतना।  जेएनयू में हुई हिंसा और प्रोफेसर्स को पीटे जाने पर उन्होंने कहा, "यही उनका एजेंडा है, आप एक ऐसी सरकार से डील कर रहे हैं जो झूठ बोलती है, जिनका पूरा काम झूठ पर चलता है। हम एक ऐसी सरकार से डील कर रहे हैं, जिनका एक मात्र मुद्दा है चुनाव जीतना और वो किसी तरह की सहानुभूति नहीं रखते।"



बॉलीवुड डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने जेएनयू छात्रों के समर्थन में आयोजित प्रदर्शन में हिस्सा लिया और इसके बाद मीडिया से  बातचीत में  कहा कि जो हमारे छात्रों ने किया है वो काफी प्रेरणादायक है। अनुराग कश्यप ने बॉलीवुड के प्रदर्शनों में उतरने को लेकर कहा, ये मुंबई नहीं, फिल्म इंडस्ट्री नहीं। ये हमारे कारण नहीं हुआ है। .ये छात्रों ने किया है और यह बहुत प्रेरणादायी बात है।  स्टूडेंट का एनर्जी लेवल काफी अलग है।  मैं तो बहुत इंस्पायर हुआ हूं, क्योंकि वो एक मतलब की बात कर रहे हैं।



अनुराग कश्यप ने कहा, “मैं आपको गारंटी देता हूं कि एक दिन ऐसा आएगा जब जांच होगी और ये साबित होगा कि देश में जितने भी और जहां पर भी दंगे जैसे हालात बने या हिंसा हुई है, उसके पीछे बीजेपी का हाथ है और उस पर उनका कंट्रोल था और उन्होंने उसे भटकाया है, वे झूठे हैं, वो धोखा देते हैं।"
अनुराग कश्यप से जब पूछा गया कि क्या अब बॉलीवुड इंडस्ट्री को भी आवाज उठाने का मौका मिल गया है? क्योंकि केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के आयोजित डिनर में जाने से कई सितारों ने इनकार कर दिया।  इस पर उन्होंने कहा, "जो लोग बोलते नहीं हैं, मैं उन्हें जज नहीं करूंगा।  क्योंकि वो किस चीज से डर रहे हैं वो मुझे नहीं पता। . सभी नहीं गए, ये एक बहुत बड़ी जीत है।  चुप रहना और सरकार के बुलावे पर ना जाना, मेरे लिए बहुत बड़ी जीत है। "


फैज अहमद फैज की नज्म 'हम देखेंगे' पर हुए विवाद को लेकर कश्यप ने कहा, "कुछ चीजों को अनदेखा करना चाहिए, क्योंकि वो बेवकूफ हैं जहां वो एक स्थिति बनाना चाहते हैं।  जो वो खुद मान चुके हैं, उसे थोपना चाहते हैं कि हमें ये करना है, लेकिन इस मुल्क़ के लोग अब झूठ और सच का फ़र्क़ अच्छी तरह समझ गए हैं। "


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक