'फादर ऑफ इंडियन एनिमेशन' राम मोहन को समर्पित होगा 'जिफ 2020'

जयपुर। जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (जिफ 2020) फादर ऑफ इंडियन एनिमेशन और पदमश्री और नेशनल अवार्ड जीत चुके राम मोहन को समर्पित होगा। राम मोहन 2011 में जिफ में एक बार आ चुके हैं। पिछले साल 11 अक्टूबर  को राम मोहन का निधन हुआ है। उनकी याद में एनिमेशन पर आधारित एक प्रदर्शनी का आयोजन भी फेस्टिवल के दौरान रखा गया है।



जिफ और जेएफएम के फाउंडर हनु रोज और जिफ के प्रवक्ता राजेन्द्र बोड़ा ने बुधवार को जयपुर में पत्रकारों को बताया कि जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में इस वर्ष 98 देशों से 2411 फिल्में आईं, जिनमें 69 देशों की 240 फिल्मों का प्रदर्शन होगा।  17 जनवरी  को फेस्टिवल की ओपनिंग सेरेमनी महाराणा प्रताप ऑडिटोरियम में होगी। ओपनिंग सेरेमनी में सम्भावित रूप से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह भी उपस्थित रहेंगे। फेस्टिवल में बतौर गेस्ट ऑफ ऑनर 'मैं हूं ना' के संवाद और 'वॉर' और '2.0' फिल्म के गीत लेखक अब्बास टायरवाला और फिल्म फैडरेशन ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष और इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट और जाने – माने प्रोड्यूसर टी.पी.अग्रवाल भी शामिल होंगे।


प्रेस कॉन्फ्रेंस में जिफ फाउंडर डायरेक्टर हनु रोज़, जिफ के चैयरमैन राजीव अरोड़ा, जिफ के सी.ई.ओ.कर्नल सुनील धीर, जिफ प्रवक्ता राजेन्द्र बोड़ा, जिफ आयोजन समिति के सदस्य अजय काला, नंदकिशोर झालानी, जयपुर फिल्म मार्केट की डायरेक्टर प्रज्ञा राठौड़ और आस्ट्रेलियन फ़िल्मकार एंड्रयू वायल ने जिफ के सम्मान पत्र का विमोचन भी किया। 


जिफ के सफ़र के बारे में बताते हुए हनु रोज़ ने बताया कि फिल्म फेस्टिवल के ज़रिए फिल्म कल्चर दुनिया के कोने – कोने में पहुंचा है। यह पहली बार है, जब शॉर्ट फिल्में और डॉक्यूमेंट्री फिल्में किसी फेस्टिवल की ओपनिंग सेरेमनी में दिखाई जाएंगी। साथ ही उन्होने जिफ के आगामी बड़े प्रोजेक्ट्स के बारे में भी जानकारी दी। 


अपने 12वें वर्ष में प्रवेश कर रहे जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2020 को बहुत ख़ास बनाने जा रही हैं इसकी ओपनिंग फिल्में। यह पहली बार होगा, जब किसी फिल्म फेस्टिवल का पर्दा एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म के प्रदर्शन से उठेगा। यह फिल्म होगी - अमेरीकन मिरर: इंटीमेशंस ऑफ इमॉर्टेलिटी।


अमेरीकन मिरर: इंटीमेशंस ऑफ इमॉर्टेलिटी एक घण्टे 2 मिनट की डॉक्यूमेंट्री और एक्सपेरिमेंटल फिल्म है, जो आर्थर बाल्डर के निर्देशन में बनी है। यू.एस. में बनी यह फिल्म आज की ज़िंदगी की क्रूर सच्चाईयों से दर्शकों को रूबरू कराएगी। 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!