प्रसार भारती के लोग बिना अनुमति मीडिया से बात नहीं कर सकेंगे

प्रसार भारती ने एक आदेश जारी करते हुए दूरदर्शन और आकाशवाणी के कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि वे एडिशनल डायरेक्टर जनरल से अनुमति  लिए बिना मीडिया के लोगों से बात नहीं करें।रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रसार भारती द्वारा पिछले महीने कई आदेश जारी किए गए थे. ये आदेश भी उन्हीं का हिस्सा हैं। इन आदेशों के अनुसार, 'दूरदर्शन' अथवा 'आकाशवाणी' के अधिकारियों को मीडिया से बातचीत अथवा प्रेस ब्रीफिंग के लिए 'प्रसार भारती' के अतिरिक्त महानिदेशक (मार्केटिंग) से अनुमति लेनी होगी। इसके अलावा मीडिया से जुड़ी अन्य गतिविधियों जैसे- ऑनलोकेशन शूट, प्रेस रिलीज जारी करना, एवर्टाइजिंग अथवा होर्डिंग्स के लिए भी अनुमति जरूरी होगी।


प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर वेम्पती का कहना है कि यह कदम व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के लिए उठाया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वेम्पती का कहना है कि किसी भी कॉरपोरेट सेक्टर में मीडिया से बातचीत के लिए एक तय पॉलिसी होती है, यह सब उसी के तहत किया जा रहा है और इसमें कुछ भी असामान्य बात नहीं है।


 


Popular posts from this blog

‘कम्युनिकेशन टुडे’ की स्वर्ण जयंती वेबिनार में इस बार ‘खबर लहरिया’ पर चर्चा

ऑडियो-वीडियो लेखन पर हिंदी का पहला निशुल्क पाठ्यक्रम 28 जनवरी से होगा शुरू

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिये मनोरंजन उद्योग में आए बदलावों पर चर्चा के लिए वेबिनार 19 को