मुंबई में शक्तिमान इंस्टीट्यूट ऑफ एक्टिंग फॉर फिल्म एंड टेलीविजन लॉन्च

 







मुंबई। ऐसा कोई भी नहीं होगा जो 'शक्तिमान' और उस किरदार को निभाने वाले एक्टर मुकेश खन्ना का फैन ना रहा हो। बच्चे से लेकर बूढ़ा, हर शख्स शक्तिमान पर फिदा था। यह किरदार 90 के दशक में इस कदर पॉपुलर हो गया था कि बच्चे तक शक्तिमान के उड़ने के स्टाइल को कॉपी करने लगे थे। लेकिन कुछ सालों बाद मुकेश खन्ना स्क्रीन और नजरों के ओझल हो गए। लेकिन अब उन्होंने एक बार फिर सिनेमा की दुनिया में एंट्री की है हालांकि इस बार उनकी भूमिका कुछ अलग किस्म की है।  



भले ही मुकेश खन्ना आज खुद एक्टिंग में सक्रिय नहीं हैं लेकिन वो आने वाली पीढ़ी को एक्टिंग में महारत हासिल करना सिखा रहे हैं। आज मुकेश खन्ना दो-दो एक्टिंग स्कूल चला रहे हैं, जहां हर उस बच्चे और शख्स को ट्रेनिंग दी जाती है जो एक्टर बनने का सपना देखता है। मुकेश खन्ना का सपना और भी कई एक्टिंग स्कूल खोलने का है और इन्हीं में वो रमे हुए हैं।
अब वह अपना एक्टिंग स्कूल मुंबई में लेकर आए हैं।  मुकेश खन्ना का यह इंस्टीट्यूट "शक्तिमान इंस्टीट्यूट ऑफ एक्टिंग फॉर फिल्म एंड "टेलीविजन' इन ज्वाइंट वेंचर ऑफ "के. एच. एंटरटेनमेंट" मुंबई के महाडा, अंधेरी वेस्ट में लॉन्च किया गया। इस इंस्टीट्यूट की लॉचिंग के लिए मुकेश खन्ना खुद पहुंचे और अपने हाथों से उद्घाटन किया। इज ब्रांच की बागडोर उनकी टीम अनिल कुमार, राहुल मिश्रा, मनमीत ग्रेवाल, सूरज रॉय, रवि कुमार के हाथों में होगा और वो इसका संचालन करेंगे। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि इस इंस्टीट्यूट का मकसद युवाओं को एक्टिंग में परिपक्व करना है। यहां रहकर वह सीख सकेंगे कि किस तरह से एक एक्टर पूरा दिन अपने कार्य के प्रति समर्पित रहता है। उन्होंने अपने टीवी शो शक्तिमान की चर्चा करते हुए कहा कि कैसे उन्हें इसके लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ती थी।

इसके अलावा मुकेश खन्ना ने इस एक्टिंग स्कूल में चार महीने का एक्टिंग कोर्स होगा, महीने के बीच-बीच में वो खुद स्पेशल क्लासेज भी लेंगे और उनकी टीम के काफी अनुभवी ट्रेनर सिलेबस बनाएंगे। साथ ही लाइव शूट की ट्रेंनिग भी दी जाएगी। जो स्टूडेंट मुंबई के बाहर से हैं उनके मुंबई में रहने का प्रबंध भी किया जाएगा।









Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप