बूंदी की अदालत ने पायल रोहतगी को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए

जयपुर।  बिग बॉस से सुर्ख़ियां बटोरने वाली अभिनेत्री पायल रोहतगी को बूंदी की अदालत ने आज जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए। इससे पहले पायल को एक रात बूंदी की जेल में बितानी पड़ी।  दरअसल, पायल रोहतगी ने नेहरु गांधी परिवार के सदस्यों को लेकर एक प्रकाशित किताब का हवाला देकर ख़ुद का एक वीडियो जारी किया था।  इस वीडियो में पायल ने पंडित मोती लाल नेहरु के वैवाहिक जीवन से लेकर पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी तक के जन्म को लेकर कई बातें कही थीं। पायल का ये वीडियो बूंदी के एक कांग्रेस कार्यकर्ता चरमेश शर्मा को पसंद नहीं आया और चरमेश ने बूंदी के सदर थाने में पायल के ख़िलाफ़ आई टी एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज करवा दिया। 



बूंदी पुलिस ने पायल के ख़िलाफ़ जांच शुरू करते हुए उन्हें नोटिस देकर जवाब तलब किया लेकिन पायल ने पुलिस को किसी भी नोटिस का जवाब नहीं दिया। इसके बाद 15 दिसम्बर को बूंदी पुलिस ने अहमदाबाद जाकर पायल रोहतगी को हिरासत में ले लिया। अगले दिन पायल को गिरफ़्तार दिखाकर पुलिस ने ए सी जे एम हनुमान सहाय जाट की कोर्ट में पायल को पेश किया।  अदालत ने अपने फ़ैसले में पायल को 24 दिसम्बर तक जेल भेजने का आदेश दिया।  कोर्ट से पायल को पुलिस की जीप में बिठाकर सीधे बूंदी जेल भेज दिया गया और वहां पायल को अन्य पांच महिला बंदियों के साथ महिला बैरक में रखा गया।


इसके बाद मंगलवार को पायल रोहतगी के लिए बूंदी कोर्ट से अच्छी ख़बर आ ही गई।  अतिरिक्त ज़िला जज के यहां पायल के वक़ील ज़मानत अर्ज़ी सोमवार को दाख़िल कर चुके थे जिस पर आज सुनवाई के बाद पायल को पचीस- पचीस हज़ार के दो ज़मानत मुचलके और पचास हज़ार के एक बेल बोंड पर ज़मानत दे दी गई। 


पायल के एक दिन के लिए जेल जाने की ये घटना उन लोगों के लिए एक सबक़ ज़रूर होगी जो सोशल मीडिया पर कभी भी कुछ भी पोस्ट करने को आतुर रहते हैं। 


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!