अब मुश्किल से ही किसी को पहचानते हैं दिलीप कुमार


हिंदी सिनेमा ने यूँ तो एक से एक कई शानदार अभिनेता दिए हैं लेकिन दिलीप कुमार एक ऐसे अभिनेता हैं जिनकी बात ही कुछ और है। आज उन्हीं बेमिसाल अभिनेता दिलीप कुमार का 98  वां जन्मदिन है।  फ़िल्मों से बरसों से दूर होने के बावजूद दिलीप साहब के दुनिया भर में आज भी लाखों करोड़ों प्रशंसक हैं।  उन प्रशंसकों में सबसे ज़्यादा उनका कोई प्रशंसक है तो वो हैं उनकी पत्नी सायरा, जो उनकी बचपन से दीवानी रही हैं। अपने जीवन में 97 पतझड़ देख चुके दिलीप कुमार फिलहाल स्वस्थ हैं।  शुभचिंतक और फैन्स सुबह से ही उन्हें बधाइयां दे रहे हैं और पत्नी सायरा बानो हमेशा की तरह उनके जन्मदिन को यादगार बनाने में जुटी हैं।  आज घर को खूबरसूरत फूलों से सजाया जाएगा, बड़ी संख्या में उनके फैन्स उन्हें गुलदस्ते भेजते हैं ये सभी गुलदस्ते दिलीप कुमार के स्वस्थ और लंबे जीवन के लिए शुभाशीषों के साथ आते हैं।


सायरा भी इन गुलदस्तों को व्यवस्थित कर दिलीप साहब को ये सब बताती हैं कि आज भी लोग उन्हें उनकी सादगी और अदायगी को बेहद पसंद करते हैं और उन्हें याद करते हैं।  हमारे पाठकों को जानकार अच्छा लगेगा कि दिलीप कुमार साहब को आज भी बिरयानी और वनीला आईस्क्रीम बहुत पसंद है और सायरा भी उनके लिए आज के दिन विशेष रूप से अपने हाथों से बिरयानी बनाकर उन्हें खिलाती हैं। 



दिलीप साहब अब बीमारी के कारण बहुत कम बोलते हैं और काफी मूडी हैं। उनके मूड पर है कभी वे लोगों को पहचान लेते हैं कभी नहीं भी पहचान पाते। हालांकि उम्र के इस मोड़ पर दिलीप कुमार अपने याददाश्त खो चुके हैं और वे बमुश्किल किसी को पहचानते हैं।  फिर भी, हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी उनके जन्मदिन पर उनके मित्र और साथी कलाकार उनसे  मिलकर उन्हें बधाई देने का प्रयास कर रहेहैं। आज उनके जन्मदिन पर कई साथी कलाकार उन्हें मिलकर जन्मदिन की शुभकामनाएं देंगे।  वैसे तो दिलीप  साहब के अभिनय से हर कोई परिचित है लेकिन फिर भी हम आपको बता दें कि उन्हें फिल्म जगत के सबसे बड़े अवार्ड  “दादा साहब फालके  पुरस्कार” लेने का गौरव भी प्राप्त है।  इसके अलावा उन्हें पद्म भूषण और पद्म विभूषण पुरस्कार से भी सम्मानित किया  जा चुका है।  दिलीप कुमार ने वैसे तो हर फिल्म में बेहतरीन किरदार निभाया है लेकिन फिर भी उनकी सबसे चर्चित फिल्मों में 'जुगनू', 'मेला', 'अंदाज', 'आन', 'दीदार', 'आजाद', 'मुगल-ए-आजम', 'कोहिनूर', 'गंगा-जमना', 'राम और श्याम', 'गोपी', 'क्रांति', 'विधाता', 'कर्मा' और 'सौदागर' जैसी फिल्में ऐसी थीं जिन्होंने गोल्डन जुबली हिट का रिकॉर्ड बनाया।  हाल में कुछ समय पूर्व ऐसा भी टाइम आया था जब उन्हें बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती होना पड़ा, तब उनके शुभचिंतकों ने उनके लंबे जीवन के लिए दुआएं मांगी और दिलीप कुमार फिर स्वस्थ होकर घर लौट आए।


कुछ दिनों पहले लता मंगेश्कर के अस्पताल से सकुशल घर लौटने पर उन्हें ट्वीट उन्हें शुभकामनाएं दी। बहरहाल उनके अभिनय ने उन्हें जो पहचान दी है वो हमेशा बनी रहे इसके लिए हम सब ईश्वर से दुआ करते हैं। 


Popular posts from this blog

मौत दबे पाँव आई और लियाक़त अली भट्टी को अपने साथ ले गई !

'बालिका वधु' जैसे धारावाहिकों के डायरेक्टर रामवृक्ष आज सब्जी बेचने को मजबूर

कोरोना की चपेट में आए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ के निधन से मीडियाकर्मियों में हड़कंप