जेकेके को कल्चरल हब के तौर पर पहचान दिलाने का प्रयास

जयपुर।  जवाहर कला केन्द्र की महानिदेशक किरण सोनी गुप्ता ने समीक्षा बैठक में आगामी कार्यक्रमों का जायजा लिया। समीक्षा बैठक के दौरान महानिदेशक ने निर्देश दिए कि हमारा मकसद जेकेके को कल्चरल हब के रूप में स्थापित करना और यहां के विभिन्न परिसर में होने वाली अर्थपूर्ण गतिविधियों से अधिक से अधिक लोगों को जोड़ना और उन्हें अवगत कराना है। उन्होंने कहा कि यहां आने वाले प्रत्येक विजिटर एवं पर्यटक को राजस्थानी संस्कृति की झलक और जयपुर के वास्तुशास्त्र का परिचय होना चाहिए। उन्होंने कहा कि वो चाहती हैं  कि विजिटरर्स यहां से अच्छी फिलिंग के साथ जाए और वह पुनः यहां लौटने के लिए प्रेरित हो। उन्होंने स्टोरीटेलिंग, बुक रीडिंग, वर्कशॉप्स, मूवी शो, आर्ट टूर, इंटरप्रिटेशन सेन्टर, एक्सपिरियंशल स्टूडियो, बच्चों के लिए विभिन्न कार्यक्रमों और पर्यटकों के लिए सोवनियर, आदि पर भी चर्चा की। महानिदेशक ने जेकेके ऐप्प के निर्माण पर विचार किया। इस अवसर पर जेकेके के अतिरिक्त महानिदेशक (प्रशासन) ललित भगत; अतिरिक्त महानिदेशक (तकनीक) फुरकान खान के अलावा विभिन्न प्रकोष्ठों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


श्रीमती गुप्ता ने कहा कि जेकेके की आउटरीच में विस्तार करते हुए यहां की आर्ट गैलेरीज, ऑडिटोरियम, मेला ग्राउण्ड, शिल्पग्राम जैसे इन्फ्रास्ट्रक्चर में गतिविधियों को बढ़ाना हमारा उद्देश्य होगा। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया जाए जिससे  जेकेके की वेबसाइट पर आगामी दिनों में होने वाले सरकारी एवं प्राइवेट इवेन्टस् का कलेण्डर भी लग  जाए, ताकि लोग इसके अनुसार अपनी योजना बना सके और यह कलेण्डर निरंतर रूप से अपडेट होते रहना चाहिए।



Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!