"द इलस्ट्रेटेड हिस्ट्री ऑफ़ पंजाबी सिनेमा" (1935-1985) का विमोचन 22 को

प्रसिद्ध  फिल्म इतिहासकार और स्तंभकार भीम राज गर्ग द्वारा लिखित अंग्रेजी पुस्तक "द इलस्ट्रेटेड हिस्ट्री ऑफ पंजाबी सिनेमा" (1935-1985) का विमोचन  मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री सरदार चरणजीत सिंह चन्नी 22 नवंबर, 2019 को प्रेस क्लब, सेक्टर -27 बी, चंडीगढ़ में करेंगे। विमोचन समारोह का आयोजन नॉर्थ ज़ोन फिल्म एंड टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन की तरफ से किया जा रहा है। इस किताब में  पंजाबी सिनेमा के प्रथम पचास शानदार वर्षों के गौरवशाली इतिहास को   ने सचित्र वर्णित किया है। 


लेखक के बारे में बात करते हुए नॉर्थ ज़ोन फिल्म एंड टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गुरप्रीत घुग्गी और महासचिव मलकीत राउनी ने कहा कि भीम राज गर्ग ने तीन दशकों से अधिक समय से पंजाबी फिल्मों पर एक व्यापक शोध किया है। अपनी शोध-यात्रा के दौरान, उन्होंने प्रमुख फिल्म संस्थानों, प्रसिद्ध पुस्तकालयों का दौरा किया और पंजाबी सिनेमा से जुड़े अनेकों दिग्गजों से साक्षात्कार किया। उन्होंने पंजाबी फिल्मों विशेष रूप से स्वर्ण युग की दुर्लभ बुकलेट्स/विवरणिकाऐं, स्टिल फोटोग्राफ, चित्र और ऑडियो/वीडियो मूवीज़ इत्यादि का संग्रह किया तथा इन सबका सुमिश्रण पुस्तक का विशेष आकर्षण है. उनके अथक व निरंतर प्रयासों द्वारा इस सुंदर एवं जानकारी परिपूर्ण संदर्भ पुस्तक की रचना हुई है।   इस पुस्तक में "इश्क-ए-पंजाब" उर्फ “मिर्जा साहिबान" (1935) से ले कर 'वैरी जट्ट' (1985) तक निर्मित 221 पंजाबी फिल्मों से संबंधित विवरण जैसे कि फिल्म बैनर्स, निर्माता, निर्देशक, स्टार-कास्ट, तकनीशियन, गीत/ संगीत व् सेंसर आदि प्रामाणिकता से प्रस्तुत किये गए हैं। पुस्तक में दुर्लभ फिल्म पोस्टर और चित्रों का समावेश यक़ीनन पाठकों को आनंदित करेगा. यह पुस्तक यहाँ एक सामान्य फिल्म-प्रेमी को रुचिकर लगेगी वहीँ अनुसंधान विद्वानों, विश्वविद्यालय के छात्रों, फिल्म निर्माताओं और संस्थानों के लिए अत्यंत उपयोगी सिद्ध होगी।


Popular posts from this blog

जुनूनी एंकर पत्रकार रोहित सरदाना की कोरोना से मौत

'कम्युनिकेशन टुडे' ने पूरा किया 25 साल का सफ़र, मीडिया शिक्षा की 100 वर्षों की यात्रा पर विशेषांक

हम लोग गिद्ध से भी गए गुजरे हैं!